Sanjay leela bhanshali की फिल्म gangubaai kathiawadi क्यों फसी विवादों मे?|Gangubai kathiawadi story

Gangubai kathiawadi story

 गंगुबाई काठियावाड़ी गुजरात के एक संपन परिवार मे जन्मी थी। जिन्होने अपने सपने और अपने प्यार पर भरोषा कर घर से भाग गई।जिसका नतिजा यह हुआ की उन्हे मात्र 500 मे बेच दिया गया। अपने परिस्थति को हराते हुए उन्होने अपना नाम बनाया और मुंबई की powerful औरतो मे से एक बनी।

इनकी कहानी किसी फिल्म से कम नही है। गंगुबाई की जीवन पर संजय लीला भंसाली एक फिल्म बना रहे हैं। जिसमे उन्होने आलिया भट्ट को गंगुबाई के रोल मे दर्शाया हैं।   

Gangubai kathiawadi story की शूरुआत 

गंगुबाई काठियावाड़ी का जन्म 1939 मे गुजरात के काठियावड़  मे हुआ था। गंगुबाई का जन्म एक ऐसे परिवार मे हुआ था जो आर्थिक रूप से मजबूत था।

 गंगुबाई का परिवार चाहता था की गंगुबाई अच्छे स्कूल मे पढ़ाई करे, लेकिन गंगुबाई का मन तो फिल्मो मे ज्यादा और पढ़ाई मे कम लगता था। गंगुबाई का पुरा नाम गांग हरजीवनदास काठियावाड़ी था

वह हमेशा से मुंबई जाना चाहती थी। मुंबई जा कर वह फिल्मो मे काम करना चाहती थी। वह पढ़ाई लिखाई छोड़ कर टीवी के सामने बैठी रहती थी। समय बिता और गंगुबाई 16 साल की हो गई ।

इस दौरान गंगुबाई के पिता का accounts का काम करने के लिये रमणीक नाम का एक लड़का आया। वह इसे पहले मुंबई मे रहता था। गंगुबाई रमणीक के साथ बैठ कर फिल्मो दुनिया की घंटो बाते किया करती थी।

गंगुबाई को ऐसा लगने लगा मानो फिल्मो मे काम करने और मुंबई जा कर अभिनेत्री का सपना उनका अब सच होने वाला है। उन्हे रास्ता मिल गया है अपने सपनो को पुरा करने की।

रमणीक और गंगुबाई की नजदीकियां बढ़ने लगी और यह नजदीकियां आगे चल कर प्यार मे बदल गया। दोनो एक दुसरे से शादी करना चाहते थे। लेकिन गंगुबाई के पिता इस शादी के खिलाफ थे। गंगुबाई अपने परिवार की एकलौती लडकी थी।

अपने पिता को शादी के खिलाफ देख गंगु और रमणीक ने भाग कर शादी कर ली। यह शादी उन्होने मंदिर मे की थी, शादी के बाद दोनो मुंबई पहूंच गये। गंगुबाई की उम्र 16 साल थी जब मुंबई आई।

कुछ दिनो साथ रहे लेकिन एक दिन अचानक रमणीक एक औरत को घर लाता है और गंगु से कहता है यह मेरी मौसी है तुम इनके साथ कुछ दिन रहो मै तब तक हमारे रहने का नया ठिकाना का वयवस्था करता हूं।

 गंगु उस औरत के साथ चली गई उसे यह पता नही था की वह जिसके साथ जा रही है वह रमणीक की मौसी नही बल्कि वह कमाठीपुरा की एक कोठे वाली थी।

रमणीक ने मात्र 500 रूपय मे गंगुबाई को एक कोठेवाली को बेच दिया था। 16 साल की उम्र मे मुंबई के मसहूर कमाथिपुरा रेड लाइट एरिया मे जा पहूंची।

कैसे बनी गंगुबाई काठियावाड़ी एक वेश्या ?

अपने पति के द्वारा मात्र 500 रूपय मे एक कोठे वाली को बेच देने के बाद गंगु बहुत दुखी हुई। जब वह क्माथिपुरा रेड लाइट एरिया मे थी तब अपनी हालत देखते हुए और परिस्तिथियो से समझौता करते हुए, गंगु ने वेश्यावृती का काम शुरु कर दिया।

धीरे धीरे गंगुबाई को सब जानने लगे और दूर दूर से लोग गंगुबाई को पूछते आने लगे थे।

 इसी दौरान एक दिन एक शौकत खान नाम का आदमी गंगुबाई के पास आया, उसने गंगु के साथ जबरदस्ती की और एक दरिंदे की तरह व्यवहार किया । उसने गंगु के शरीर पर बहुत जख्म भी दिया और बिना पैसे दिये ही चला गया।

गंगुबाई ने इस बारे मे कुछ नही किया ऐसा उनके साथ पहली बार हुआ था। कुछ दिनो बाद शौकत खान फिर से गंगु के पास आया, उसे फिर से गंगु के साथ वैसा ही जानवरों जैसा वरताव किया इस बार गंगु की हालत इतनी खराब हो गई थी की उन्हे हॉस्पिटल मे भर्ती करना पड़ा था।

दुसरे औरतो की तरह गंगुबाई खामोश रहने वालो मे से नही थी। उन्होने अपने साथ हुए घटना से हार नही मानी और शौकत खान को सवक सिखाने की ठान ली।

 जब गंगु ने शौकत खान के बारे मे पता किया तब उन्हे पता चला की शौकत खान करीम लाला का आदमी था।

कारीम लाला उन दिनो का एक मश्हूर और खतरनाक डॉन था। शौकत खान करीम लाला का आदमी होने का फायदा उठाता था और वह किसी के साथ भी मन चाहा वरताव और जोर जबरदस्ती करता था।

गंगुबाई शौकत खान के बारे मे जानने के बाद भी उसे डरी नही, उन्होने अपनी आप बीती और शौकत खान की शिकायत करीम लाला से करने के लिये करीम लाला के घर पहूंच गई ।

 एक वेश्या को घर मे देख कर डॉन के आदमियों ने गंगुबाई को अलग बैठाया और उनके खाने के लिये नाश्ता का प्रबंध किया। 

अपने साथ ऐसा व्यवाहर देख गंगु ने कुछ नही खाया पिया। जब करीम लाला आये उन्होने देखा की गंगुबाई का नाश्ता रखा हुआ है और उन्होने कुछ नही खाया है।

 तब करीम लाला ने गंगुबाई को कुछ खाने की आग्रह की। तब गंगु ने कहा जैसे मेरे आने से आपका घर गंदा हो सकता है उसी प्रकार इन बर्तनों को छूने से यह गंदा हो जाएगा।

ऐसा कहते हुए गंगुबाई ने अपनी आप बीती कहानी करीम लाला को बताई और शौकत खान gangubai kathiawadi story की सारी करतूत बताई, करीम लाला ने शौकत खान के खिलाफ कारवाई की बात कही, और कहा आगे से आपके साथ ऐसा कुछ भी हो तो मुझे जरुर बताना।

इतना सुनते ही गंगुबाई भाभुक हो गई और उन्होने अपने बैग से एक धागा निकाला और करीम लाला के हाथो मे बांध दिया।

 धागा बांधते हुए उन्होने कहा आज तक मैने इतना सुरक्षित कभी महसूस नही किया। ऐसा कहते हुए उन्होने एक कहा आज से आप मेरे मुह बोले भाई हैं। 

कैसे बनी गंगुबाई काठियावाड़ी famous और powerful?

जब यह बात सभी को पता चली तब गंगुबाई कमाठीपुरा की फ़ेमस होने लगी सभी को मालुम था की गंगु को परेशान करने का मतलब करीम लाला से दुश्मनी मोल लेना।

कमाथिपुरा मे सभी लोग गंगुबाई की बहुत इज्जत करने लगे थे। कुछ दिनो बाद कमाथिपुरा रेड लाइट एरिया मे एक ईलेक्शन होने वाला था, जिसमे गंगुबाई ने भी हिस्सा लिया और वह अपने स्वभाव से लोगो के वोट लेने मे सफल हुई और वह ईलेक्शन मे उन्होने जीत हासिल की।

ईलेक्शन जीतने के बाद उन्होने मुंबई मे काम कर रही वैसैयाओ के लिये काफी लड़ाईया लड़ी।

 
 

इसके साथ ही उन्होने कहा कोई भी जबर्दस्ती यहां काम नही करेगा, जो महिला अपनी मर्ज़ी से काम करना चाहती है सिर्फ वही यहां काम करेगी।

60 के दसक तक गंगुबाई का उठना बैठना मुंबई के बड़े बड़े नेतायों और डॉन के साथ होने लगा था। अब उनका नाम powerful महिलयों के लिस्ट मे शामिल हो गया था।

 मुंबई मे काम करने वाली वेश्याये आज भी उनकी फोटो को अपने कमरे मे लगाती हैं।

दोस्तो 16 साल की एक लडकी जिसने कभी नही सोचा होगा की उनकी जिन्दगी ऐसे बदल जायेगी। 

Gangubai kathiawadi के जीवन पर बन रही है फिल्म

गंगुबाई काठियावाड़ी पर s.hussain zaidi ने एक किताब भी लिखी है जिसका नाम है Mafia queen of mumbai

 गंगुबाई करीम लाला की मुह बोली बहन होने के कारन गंगुबाई से अच्छे अच्छे अपराधी डरते थे। गंगुबाई को गरीब लोगो, प्रताड़ित महिलाएं और बच्चो के लिये किसी मसिहे से कम नही थी।

बॉलिवूड के मसहूर डिरेक्टर संजय लीला भंसाली की नज़र गंगुबाई काठियावाड़ी के जीवन पर पड़ी और s.hussain zaidi द्वारा लिखी किताब mafia queens of mumbai जो की गंगुबाई की जीवन पर आधारित है। 

इस कहानी पर वह फिल्म बना रहे हैं और यह bhanshali production मे बन रही है। हाल ही मे इस फिल्म की एक पोस्टर रिलीज़ हुई है।

जिसमे आलिया भट्ट मुख्य किरदार मे नज़र आ रही है। आलिया भट्ट ने गंगुबाई का रोल अदा किया है।

Sanjay leela bhanshali की फिल्म gangubaai kathiawadi क्यों फसी विवादों मे?

गंगुबाई के परिवार ने संजय लीला भंसाली के खिलाफ एक मुकदमा दर्ज किया है। 

जिसमे गंगुबाई के बेटे बापजी राओजी शाह ने कहा है की उनके परिवार को बहुत ही निजी और गलत तरीके से दिखाया जा रहा है। 

उन्होने मांग की है की बुक के कुछ chapters को पर्दे पर ना दिखाने की मांग की है।

और कहा है की फिल्म के कुछ सीन को पर्दे पर ना दर्शाया जाये। यह केस अभी कोर्ट मे है।

 इस फिल्म को सितम्बर 2020 मे ही रिलीज़ होना था लेकिन covid 19 के कारन इस फिल्म की रिलीज़ डेट को आगे बढ़ा दिया गया है। हाल मे ही इस फिल्म की एक पोस्टर रिलीज़ की गई है। 

अगर आप यह पढ़ रहे हैं तो यहां तक आने के लिये धन्यवाद मुझे आशा है की आपको gangubai kathiawadi story की हिन्दी कहानी पसंद आई होगी ।

और रोमांचिक कहानियां है निचे पढ़े।

Leave a Comment