दो दोस्तों ने बना दी 4 लाख से 1 लाख करोड़ की कंपनी|flipkart success story pdf

नमस्कार दोस्तों आपका hindikahaniyauniverse.com में स्वागत है। इस blog पे आपको दो दोस्तों ने बना दी 4 लाख से 1 लाख करोड़ की कंपनी|flipkart success story pdf इन्ही तरह के और भी kahaniya पढ़ने को मिलेंगे।

flipkart success story pdf की शूरुआत

क्या आपको जानते हैं? flipkart की शुरुआत सिर्फ 4 लाख रूपय की लागत से किया गया था। आज flipkart 1,177,040,000,000.00 रूपय की कंपनी बन चुकी है।

आज की कहानी है दो दोस्तो की जिन्होने साथ मिल कर 1लाख करोड़ की कंपनी बना दी। जो की भारत की सबसे बड़ी कंपनीयों मे से आज एक है। 

अगर भारतीय चाहे तो कुछ भी कर सकते हैं। ऐसा ही एक उदाहरण पेस किया सचिन बंसल और विनी बंसल ने। 

Flipkart की शुरुआत कैसे हुई|How flipkart was started 

flipkart आज भारत की नम्बर वन ecomerce कंपनी है। IIT delhi मे पढ़ रहे दो दोस्त सचिन बंसल और वीनी बंसल computer science से अपनी bachlore की डिग्री कर रहे थे।

कॉलेज खत्म होने के बाद दोनो को दुनिया की सबसे बड़ी e-comerce कंपनी amazon मे जॉब मिल गई।

 दोनो ने वहां काम करना शुरु कर दिया। कुछ समय बाद उन्हे खुद की e-commerce कंपनी खोलने का विचार आया।

दोनो ने मिल कर 5 सितम्बर 2007 को बंगलोरे के 2 बेडरूम अपार्टमेंट से e-commerce कंपनी की शुरुआत की जिसका नाम उन्होने रखा था flipkart ।

 जब flipkart पर ज्यादा काम करना पड़ता था इसके कारन दोनो ने अपनी जॉब छोड़ दी और पूरी तरह से flipkart मे लग गये।

Related : इन्हे भी पढ़े 

 

शुरुआत मे flipkart एक ऑनलाइन बुक स्टोर था। जहां दोनो दोस्त ऑनलाइन किताबे बेचा करते थे। शुरुआत मे कोई कस्टमर नही आता था।

 लोगो को flipkart के बारे मे बताने flipkart success story pdf के लिये दोनो बंगलोरे के बड़े बुक stores के बाहर खड़े हो कर परचियां बाटा करते थे ताकी लोगो को flipkart के बारे मे पता चले। 

दोनो की मेहनत रंग लाई और 2009 तक उन्होने 4 करोड़ का बिज़नेस कर लिया था। अब flipkart को लोग जानने लगे थे।

 flipkart का customer base बढ़ने लगा था। लोग अब flipkart से जुड़ना चाहते थे। 

2007 मे जब flipkart की शुरुआत हुई तब भारतीय लोगो के मन मे यह था की हम बिना देखे समान कैसे खरीदे और समान लेने से पहले ही पैसे नही दे सकते। 

तब flipkart ने cash on delivery की शुरुआत की जिसके कारन flipkart मशहूर होने लगा था।

Flipkart कैसे बना 16 billion डॉलर की कंपनी? Growth of flipkart over the years

2009 के बाद flipkart ने अपने बिज़नेस को बढ़ना चालू किया और अपने सेंटर अलग अलग शहरो मे बढाने लगा। बंगलोरे के अलावे, मुंबई, दिल्ली जैसे बड़े शहरो मे।

2014 मे flipkart ने myntra.com को $400 मिलियन मे खरीद लिया। इसके कारन flipkart ने बहुत सारे investor का ध्यान अपनी ओर खिचा।

2016 मे flipkart ने jabong.com को $70 मिलियन मे खरीद लिया। जो की एक fashion वेबसाइट था। इसके साथ साथ 2017 मे flipkart ने payment website PhonePe को खरीद लिया।

2014 मे जब flipkart पर big billion सेल आया कंपनी को $300 million का फायदा हुआ था।

2011 मे flipkart ने अपना ऑफ़िस सिंगापुर मे भी शुरु किया। 

2016 तक सचिन बंसल flipkart के ceo थे। लेकिन 2016 मे उन्होने स्तीफा दे दिया उसके बाद बिन्नी बंसल ने ceo पोस्ट को सम्भाला।
 
 अभी कल्याण कृष्णामुर्ति (Kalyan Krishnamurthy) flipkart के presently ceo हैं। 
 

Flipkart को आगे बढ़ने की पूंजी कहा से और कैसे मिली? funding history of flipkart

शुरुआती दौर मे flipkart के फाऊंडर सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने ही 4 लाख लगाया था।

 बाद मे जब flipkart आगे बढ़ा तब accel india और tiger global ने flipkart से जुड़े। tiger global आज भी Flipkart से जुड़ा हुआ है।

Flipkart दिन पर दिन और मशहूर होता जा रहा है। लोग flipkart पर भरोसा करते हैं। दिन प्रति दिन नये लोग भी flipkart से जुडते जा रहे हैं। कंपनी आज आगे बढती जा रही है। 

अगर आप यह पढ़ रहे हैं तो यहां तक आने के लिये धन्यवाद मुझे आशा है की आपको दो दोस्तों ने बना दी 4 लाख से 1 लाख करोड़ की कंपनी|flipkart success story pdf की हिन्दी कहानी पसंद आई होगी ।

और रोमांचिक कहानियां है निचे पढ़े।

Leave a Comment

भुज the pride of india के असली हीरो विजय कार्णिक |Biography of vijay karnik in hindi 22 Blogs fail हुए पर अब कमाते है लाखो में |Success story of Indian blogger Olympic मेडल दिलाने वाली Saikhom mirabai chanu biography in hindi वरुण बरनवाल की IAS बनने की कहानी | success story of ias in hindi 2021
भुज the pride of india के असली हीरो विजय कार्णिक |Biography of vijay karnik in hindi 22 Blogs fail हुए पर अब कमाते है लाखो में |Success story of Indian blogger Olympic मेडल दिलाने वाली Saikhom mirabai chanu biography in hindi वरुण बरनवाल की IAS बनने की कहानी | success story of ias in hindi 2021