Disney princess cinderella story in hindi|Hindi kahaniya

Disney princess cinderella story in hindi|Hindi kahaniya

नमस्कार दोस्तों आपका hindikahaniyauniverse.com में स्वागत है। इस blog पे आपको inspirational Hindi kahani, Horror Hindi kahaniya …इन्ही तरह के और भी  Hindi kahaniya पढ़ने को मिलेंगे ।

कहानी की शुरुआत

बहुत समय पहले की बात है एक अमीर आदमी था। उसकी एक बेटी थी जिसका नाम सिंदरेला था। सिंदरेला एक बहुत सुन्दर और दिल की बहुत अच्छी लड़की थी। सिंदरेला की माँ को गुजरे कुछ समय हो चुका था।
 वह अकेली हो गई थी। उसके पिता ने दूसरी शादी की,  उन्होने सोचा उनकी नई पत्नी सिंदरेला का अच्छे से ध्यान रखेगी और उसे प्यार करेगी। 
लेकिन ऐसा हुआ नही, शादी के बाद जब सिंदरेला की सौतेली मां घर आई तब उसके साथ उसकी दो बेटिया भी साथ आई। उसकी दोनो बेटिया भी अपनी मां की तरह मतलबी और निर्दाय थी। 【Hindi kahaniya】

सिंदरेला की सौतेली मां उसे घर का सारा काम करवाती थी। झाडू,पोछा,कपड़े धोना,बर्तन धोना सब करवाती थी। सिंदरेला की सौतेली मां और उनकी बेटिया उसे नफरत करती थी। वह सिंदरेला की खुबसूरती और उसके उदार दिल से बहुत ईर्षा करती थी। 

सिंदरेला की सौतेली बहने सिंदरेला जितनी सुन्दर नही थी। इतना ही नही वह दोनो बहुत कठोर दिल की भी थी। 

एक दिन की बात है सिंदरेला के पिता को किसी काम से कुछ समय के लिये बाहर जाना पड़ा। यहीं वह समय था जब सिंदरेला के सौतेली मां और बहनें मिल कर उसकी जिंदगी को नर्क बना दिया।
सिंदरेला जब बगीचे मे अपने प्यारे चिड़ीयो से बात कर रही थी। तब उसकी सौतेली मां वहां आती है। और कहती है 
सौतेली माँ:- आज के बाद तुम अपने कमरे मे नही रहोगी। तुम आटारी पे रहोगी। (वह एक छोटा सा कमर था।जो बहुत गंदा था। वहा टूटे फूटे समान रखे हुए थे और वहां चूहे बहुत थे।) और तुम घर का सारा काम करोगी। और तुम्हारा इन कपड़ो मे घुमा मुझे बिल्कुल पसंद नही है। 【Cinderella ki kahani with cartoon】

सिंदरेला को कुछ समझ नही आया की वो क्या करे। वह असहाय रुप से खडी रही। वह अपना सामान ले कर आटारी पे चली गई। उस दिन के बाद से घर का सारा काम वह खुद किया करती थी। 

उसकी सौतेली मां और बहने उसे एक एक काम करवाती थी। सिंदरेला बहुत थक जाती थी लेकिन फिर भी काम करती थी। सिंदरेला के पास उसके कमरे मे रहने वाले चूहे और खिडकी पे आकर बैठने वाले चिड़ीयो के अलावा कोई दोस्त नही था।
 वह उन्ही से बाते किया करती थी। ठंडी मे वह काँपने हुए चिमनी के पास जाती और वही सो जाती थी।

ऐसे ही दिन गुजर रहा था। एक दिन राज्य द्वारा शहर मे एक पार्टी की घोसणा की गई। जिसमे राज्य की सभी कुवारी लडकियो को आमंत्रण दिया गया जो शादी के लायक थी।

cinderella real story in hindi|Hindi kahaniya

 जैसे ही यह बात सौतेली बहने सुनती है वह भागती हूई अपनी मां के पास गई और इस घोसणा के बारे मे बताया। इस पार्टी मे राजकुमार अपनी होने वाली पत्नी का चयन करने वाले थे। सौतेली मां ने कहा इस पार्टी मे तुम दोनो ही सबसे सुन्दर दिखोगी। 
इसके लिये हमे तुम दोनो के लिये कपड़े और जुते की खरीदारी करनी है। यह कह कर सभी खारिदारी करने बाहर चली गई। वहां खडी उनकी बाते सुन रही सिंदरेला बहुत उदास हो गई। 【princess cinderella in hindi】
कई दिन तैयारियां चल रही थी। सौतेली बहनो के गाउन सिल कर आ गये थे।वह रोज उस गाउन को पहन कर शीशे के सामने कहती हम दोनो ही सबसे सुन्दर लगेंगे पार्टी मे। 
वो दिन आ चुका था जब राजकुमार पार्टी मे अपनी राजकुमारी का चयन करते। सौतेली बहनें सुबह जल्दी उठ गई। उन दोनो ने सिंदरेला को बुलाया और कहा तैयार होने मे मेरी मदद करो। पुरा दिन सिंदरेला ने सौतेली बहनो को तैयार होंने मे मदद की। 
शाम तक दोनो पार्टी मे जाने के लिये पूरी तरह से तैयार हो चुकी थी। आखिर कार सिंदरेला ने हिम्मत जुटा कर अपनी सौतेली मां से पुछा की वह भी पार्टी मे जाना चाह्ती है। सौतेली मां हसने लगती है और कहती है कौन तुम?
 तभी सौतेली बहने कहती है राजकुमार को अपने लिये राजकुमारी चाहिये नौकरी नही। सौतेली मां कहती है सोने से पहले सारा काम खत्म कर देना। यह कह कर वह अपनी बेटियों के साथ पार्टी के लिये निकल जाती है।  【princess cinderella in hindi】
                     

अकेली सिंदरेला रोने लगती है और सोचती है आज अगर मेरे माता पिता यहां होते तो यह सब नही होता। तभी वहां एक रौशनी चमकती है। उसे देख सिंदरेला घबरा जाती है और उसे देखती रहती है।

 उस रौशनी मे से एक परी निकलती है। वह परी कहती है मेरी प्यारी सिंदरेला रो मत तुम भी उस पार्टी मे जाओगी। तभी सिंदरेला पूछती है।
 क्या मै भी पार्टी मे जा सकती हूं? मेरी हालत तो देखो, तब परी कहती है तुम उसकी चिंता मत करो वो सब मुझ पर छोड दो तुम बस एक कदू और सात चूहे लाकर मुझे दो।

सिंदरेला अपने आटारी मे जाती है और अपने चूहे दोस्तो को लाती है। फिर रशोई से कदू ले कर आती है। उसे समझ नही आ रहा था की इनका परी क्या करेगी लेकिन उसे जो कहा गया उसने वह किया। 【Hindi kahaniya】

परी ने कदू को एक सुन्दर रथ मे बदल दिया, 7 चूहो मे से एक रथ चलानेवाला सारथी और बाकी 6 घोड़े बन गये। परी अब सिंदरेला की तरफ आई और अपनी जादुई छडी से उसे छुआ। सिंदरेला के कपड़े पार्टी गाउन मे बदल गये उसके पैरो की चप्पल जूते मे बदल गये। वह एक राजकुमारी लग रही थी।

परी ने सिंदरेला से कहा तुम पार्टी से जल्दी चली आना क्युंकि 12 बजते ही तुम पहले जैसी हो जाओगी। सिंदरेला ने परी की बाते ध्यान से सुनी और कहा मै ध्यान रखूंगी। 

सिंदरेला रथ मे बैठ कर पार्टी के लिये निकल जाती है। उसकी रथ महल के सामने खडी हो जाती है। जब सिंदरेला ने महल के मुख्य दरवाजे से अंदर घुसी महल के सभी लोगो की नजरें उसपर ही थी। 
वह बहुत सुन्दर लग रही थी। उसकी सौतेली बहने और मां भी उसे देखती रह गई थी और उसे पहचान भी नही पाई। 
अचानक सीढियो से उतरते हुए राजकुमार आते है उनकी नज़र सिंदरेला पर पडती है। राजकुमार को पहली नज़र मे ही प्यार हो जाता है। वह आगे बढते हुए सिंदरेला के पास जाता है और उसे नृत्य के लिये पूछता है। 【Hindi kahani】
सिंदरेला ने बहुत आदर से हां कहा, दोनो ने सभी मेहमानों के सामने नृत्य करना शुरू किया। दोनो एक दुसरे मे खो गये थे मानो वहा और कोई हो ही नही वह कई घंटो तक नृत्य करते रहे।

सिंदरेला भुल चुकी थी की 12 बजते ही वह पहले जैसे हो जायेगी उसे समय का अंदाजा भी नही था। तभी सिंदरेला की नज़र घड़ी पर पडती है और घड़ी मे 12 बजने मे कुछ ही समय बचा था। सिंदरेला राजकुमार को वही छोड बाहर भागने लगी। 

जब वह सीढिय़ों से निचे उतर रही थी उसका एक जुता वही गीर गया। जैसे ही वह बाहर आती है 12 बज जाता है और वह पहले जैसे हो जाती है। राजकुमार उसके पीछे भागता है उसे सीढियो पर उसका एक जुता मिलता है। 【hindi kahani】

राजकुमार ने अपने सैनिको को आदेश दिया यह जूता जिस  लड़की का है उसे ढूंढो। चाहे इसके लिये राज्य की एक एक लडकियों को क्यूं ना मिलना पड़े उसे ढूंढ कर लाओ। 

 
इधर सिंदरेला भागती हूई घर पहुँचती है और सीधा अपने अटारी मे जाती है। वह राजकुमार के साथ बिताये पल के बारे मे सोचने लगी। 
उसे पता था की उसके पास कोई मौका नही था लेकिन उसे राजकुमार से प्यार हो जाता है। उधर राजकुमार के लिये उस लड़की को खोजना बहुत मुस्किल था अगर वह खोज भी लेता तो वह उसे पहचान नही पाता।

सैनिकों ने लड़की को ढूँढना शुरू कर दिया। वह राज्य के घर घर जा कर जुता पहना पहना कर चेक करना शुरू किया लेकिन जूता किसी भी लड़की के पैरो मे फिट नही हुआ। अंत मे राजकुमार के सैनिक सिंदरेला के घर पहुँचे। 

सिंदरेला राजकुमार की गाड़ी देख बहुत खुश हूई। सिंदरेला जैसे ही आटारी से बाहर जाना चाह्ती है उसकी सौतेली मां दरवाजे पर आती है और कहती है कहा चली? तुम भी जूता पहनना चाह्ती हो? हा हा हा हा हसते हुए वह दरवाजा बन्द कर देती है और चाबी अपने साथ ले कर चली गई। 【Hindi kahaniya】
उसकी दोनो सौतेली बहने जुता पहन कर देखती है लेकिन फिट नही होता है। सैनिक बाहर आते है सिंदरेला रोने लगती है तभी उसके चूहे दोस्त वहां आते है। सिंदरेला कहती है मेरी सौतेली मां ने मुझे यहां बन्द कर दिया है और चाबी उसी के पास होगी।

चुहा दरवाजे के निचे से बाहर जाता है और सौतेली मां के पास से चाबी ला कर सिंदरेला को दे देता है। सिंदरेला दरवाज़ा खोल बाहर आती है और सैनिको को कहती है की वह जूता पहनना चाह्ती है। यह सुन सौतेली मा और बहने जोर जोर से हसने लगती है। तभी सैनिक बोलता है शान्त हो जाओ राजकुमार का हुक्म है सारी लडकियो को यह जुता पहना कर देखा जाये।

जब सिंदरेला ने जूता पहना सब लोग आश्चर्य हो जाते है क्यूंकि जुता फिट हो जाता है। सैनिक पुछता है सुन्दर युवती क्या यह बूट आपका है? सिंदरेला ने सर हिला कर बोला हां। तब सैनिक ने बोला कृपया आप हमारे साथ महल चले। 
सैनिको ने सिंदरेला को राजकुमार के सामने पेश किया। राजकुमार ने सिंदरेला की आंखो मे देखा और वह पहचान गया की उस रात उसने इसी के साथ नृत्य किया था। राजकुमार ने सिंदरेला का हाथ थामा और कहा आखिर कार मैने तुम्हे ढूँढ ही निकाला। 
राजकुमार ने उसे पुछा क्या तुम मुझसे शादी करोगी? सिंदरेला के आंखो मे खुशी के आंशु थे। उसने हां कहा, दोनो ने शादी की और खुशी खुशी जीवन बिताने लगे। 【cindrella ki kahani hindi cartoon ke sath】

यह hindi kahani अच्छी लगी हो तो कमेंट कर के बताएं।

निष्कर्ष 

अगर आप यह पढ़ रहे हैं तो यहां तक आने के लिये धन्यवाद मुझे आशा है की आपको Disney princess cinderella story in hindi|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in hindi की हिन्दी कहानी पसंद आई होगी ।
और रोमांचिक कहानियां है निचे पढ़े।

Leave a Comment