America ने haldiram को ban क्यों किया?|Haldiram wikipedia In Hindi

नमस्कार दोस्तों आपका hindikahaniyauniverse.com में स्वागत है। इस blog पे आपको inspirational Hindi kahani, America ने haldiram को ban क्यों किया?|Haldiram wikipedia In Hindi    इन्ही तरह के और भी  Hindi kahaniya पढ़ने को मिलेंगे ।
 

Haldiram wikipedia In Hindi की शूरुआत

आप सभी ने Haldiram की भुजिया के बारे मे जरुर सुना है। शायद आप हर रोज खाते भी हो।

 हल्दीराम की भुजिया भारत के हर एक घर मे खाया जाता है और ना केवल भारत मे बल्कि दुनिया के अलग अलग देशो मे भी हल्दीराम भुजिया को खुब पसंद किया जाता है।

 हल्दीराम आज एक ब्राण्ड है। एक छोटी सी नमकीन की दुकान आज लोगो के हर शाम का नास्ता प्रदान करता है।

हल्दीराम की शुरुआत कैसे हुई?

हल्दीराम की शुरुआत 1937 मे राजस्थान, के बीकानेर से हुई थी। जब तनसुख दास ने अपनी बहन से भुजिया बनाने का तरीका सिखा और बीकानेर मे एक नमकीन की दुकान खोली।

 इस दुकान की कमाई से तनसुख दास अपने परिवार के खर्चे उठता था। तनसुख दास के बेटे ganga bhisan agarwal भी दुकान पर बैठता था।

 गांग भिसन अग्रवाल ने भुजिया मे कुछ बदलाव किया। जैसे मोटी भुजिया को बारीक कर दिया, कुछ चटपाटे मशाले शामिल किये और भुजिया को crispy बना दिया। 

ganga bhisan Agarwal का यह बदलाव लोगो को बहुत पसंद आने लगा। बाजार मे हल्दीराम भुजिया बहुत मसहूर होने लगा। नमकीन के सौखीन लोगो की भीड दुकान पर होने लगी।

 दरसल हल्दीराम गंगा भिसन अग्रवाल का दुसरा नाम था। गंगा के बदलाव के कारण नमकीन मसहूर हुआ था इसलिए उस नमकीन की दुकान को हल्दीराम के नाम से आगे बढाया गया। 

Related : इन्हे भी पढ़े 

हल्दीराम अब अपने व्यापार को आगे बढाने लगा। तनसुख दास के छोटे बेटे रामेश्वर जी ने हल्दीराम को आगे बढ़ाते हुए कोलकाता मे एक दुकान खोली यह कदम हल्दीराम को बहुत फायदेमंद साबित हुआ।

हल्दीराम का पहला manufacturing plant कोलकाता मे लगाया गया। 1970 मे हल्दीराम ने दिल्ली मे अपना दुसरा manufacturing plant लगाया  Delhi जो की भारत की राजनैतिक राज्य है। धीरे धीरे हल्दीराम देश के अलग अलग राज्यो मे अपना manufacturing plant लगता गया। 

आज की तारिख मे हल्दीराम की मैन्युफैक्चरिंग plant कोलकाता,नागपुर,बीकानेर,और दिल्ली मे हैं। जहां से नमकीन दुनिया भर मे निर्यात किया जाता है।

 जैसे अमेरिका,श्री लंका,यूनाइटेड किंगडम,कनाडा, जापान थाईलैंड, संयुक्त अरब अमीरात,ऑस्ट्रेलिया जैसे देशो मे भी मांग है हल्दीराम की।

आज हल्दीराम की खुद की रेस्तराँ, खुद की food chain हैं। आज food industry मे हल्दी राम एक बहुत बड़ी कंपनी है। लोग हल्दीराम पर बहुत भरोषा करते है।

Haldiram के products 

हल्दीराम आज 400 से भी अधिक products बनाता हैं। जिसमे भुजिया,मिठाईयाँ, पापड़ और आचार शामिल है। 

हल्दीराम आज लोगो की पहली पसंद होता हैं। चाहे बात हो नमकीन की या मिठाईयाँ की लोग बहुत ही शौख से खाते हैं हल्दीराम की मिठाईयाँ।
 

 हल्दीराम त्योहारो के लिये अलग अलग मिठाईयाँ भी बनाता है।
आज के समय मे हल्दीराम के समान ऑनलाइन भी बिकते है। चाहे वह मिठाई हो या नमकीन।

haldiram revenue 2019

हल्दीराम जो की एक फैमिली बिज़नेस है। आज वह बहुत बड़ा ब्राण्ड है। इसके तीन कंपनी हैं haldiraam’s nagpur, haldiraam bhujiawala और haldiram’s prabhuji ।

हल्दीराम ने 2019 मे 7,130 करोड़ का व्यापार किया था।
हल्दीराम आलू के चिप्स का भी बहुत बडा उत्पादक है।

एक report के अनुसार हल्दीराम 2014 मे most trusted brands मे नम्बर 55 पर था।

America ने haldiram को ban क्यों किया?

2015 मे यूनाइटेड स्टेट औफ़ अमेरिका के food and drug administration ने एक जाँच मे पाया की pesticides and bacteria Salmonella भुजिया मे मिलया जाता है ताकी भुजिया crispy हो। जो की शेहत के लिये ठीक नही है।

 इसलिए fda ने haldiram bhujiya को banned कर दिया था।

हालाकि महाराष्ट्र court ने इसकी जाँच की और haldiraam के products को चेक किया गया था। निसमे पाया गया की सभी उत्पाद की सीमा के अंतर्गत है जो की शेहत के लिये हानिकारक नही है। जिसके बाद कंपनी को क्लीन चीट दे दी गई । 

अगर आप यह पढ़ रहे हैं तो यहां तक आने के लिये धन्यवाद मुझे आशा है की आपको America ने haldiram को ban क्यों किया?|Haldiram wikipedia In Hindi की हिन्दी कहानी पसंद आई होगी ।

और रोमांचिक कहानियां है निचे पढ़े। 

Leave a Comment

भुज the pride of india के असली हीरो विजय कार्णिक |Biography of vijay karnik in hindi 22 Blogs fail हुए पर अब कमाते है लाखो में |Success story of Indian blogger Olympic मेडल दिलाने वाली Saikhom mirabai chanu biography in hindi वरुण बरनवाल की IAS बनने की कहानी | success story of ias in hindi 2021
भुज the pride of india के असली हीरो विजय कार्णिक |Biography of vijay karnik in hindi 22 Blogs fail हुए पर अब कमाते है लाखो में |Success story of Indian blogger Olympic मेडल दिलाने वाली Saikhom mirabai chanu biography in hindi वरुण बरनवाल की IAS बनने की कहानी | success story of ias in hindi 2021