2 min में जादुई चक्की ने कर दिया मालामाल Hindi kahaniya

2 min में जादुई चक्की ने कर दिया मालामाल Hindi kahaniya

नमस्कार दोस्तों आपका hindikahaniyauniverse.com में स्वागत है। इस blog पे आपको inspirational stories in hindi, magical Hindi kahaniya …इन्ही तरह के और भी kahaniya पढ़ने को मिलेंगे ।

कहानी की शूरुआत

यह हिन्दी कहानी एक गरीब परिवार की है। जो बाद मे अमीर बन जाते है। ऐसा क्या होता है उनकी जिंदगी मे?  
आइये इस कहानी को आगे पढिए और इससे कुछ सीख लिजिये जो जीवन मे आपको एक बेहतर इंसान बनने में मदद करेगी। 
एक गांव मे दो भाई रहते थे। बड़े भाई का नाम विजय था और छोटे भाई का नाम राजन। बड़ा भाई विजय बहुत अमीर था लेकिन छोटा भाई मेहनत तो खुब करता था परंतु फिर भी वह अपने और अपने परिवार की जरूरते पूरी नही कर पाता था। वह अपने गरीबी से बहुत परेशान था।

विजय ने अपने पिता की दौलत मे से राजन का हिस्सा नही दिया था। दिवाली का समय था,चारो तरफ दियों की रौशनी थी। घर-घर मीठा और तरह तरह के पकवान बन रहे थे। विजय ने नये कपड़े पहन लिये थे। उसकी पत्नी और बच्चे भी तैयार थे। घर मे कई ऊपहार थे,खाने को रंग बिरंगी ढेर सारी मिठाईयाँ थी।(hindi kahani )

वही राजन के घर त्योहार तो क्या खाने के लिये भी पैसे नही थे। वह मदद की अपेक्षा से अपने बड़े भाई विजय के घर पहुंचा।

राजन :- सुनो भैया मेरे काम का अब कोई ठिकाना नही है। मै परेशान हो चुका हूं,मै हर रोज काम की तलाश मे बाहर निकलता हूं,लेकिन मायुशी के अलावा कुछ नही मिलता। घर पर राधा और शयाम भूखे बैठे हैं। मेरी कुछ मदद करो मेरे पास पैसे आते ही तुम्हे लौटा दूँगा। (jadui kahani )

विजय:- मैंने बहुत मेहनत से यह सब कमाया है। आजकल मेरे खर्चे भी बढ़ गये हैं। मै तुम्हारी कोई मदद नही कर सकता।

Related:-भगवान बुद्ध ने कैसे एक परेशान किसान की मदद की ? पूरी कहानी पढ़े। 


तभी राजन विजय से कहता है पिता जी ने जो मेरा हिस्सा दिया है उसे मुझे देदो। 

आजतक मैनें तुमसे कभी नही मांगा है लेकिन मेरे बुरे दिन चल रहे हैं। विजय गुस्से से बोलता है तुम्हारी इतनी हिम्मत मुझसे हिस्सा मांग रहे हो। चले जाओ यहां से।

राजन को उसके भाई के वरताव से बहुत बुरा लगा। वह काम की तलाश मे जंगल की ओर चल पड़ा। कुछ दूर चलते ही उसे एक बूढ़ी औरत दिखाई दी उसके पास एक लकडियों का ढेर था। 

राजन ने सोचा अगर मै इनकी कुछ मदद कर दूँ,तो मुझे कुछ पैसे मिल सकते हैं। (moral story for kids in hindi )

राजन उस बूढी औरत के पास जाता है और कहता है क्या मै आपकी मदद कर दूँ माता जी? 

आप इसके बदले मुझे कुछ पैसे दे देना। अगर और कोई भी काम है तो मै वो भी कर दूँगा। बूढ़ी औरत ने बोला ठीक है।

राजन बूढ़ी औरत के घर पहुँचता है। बढ़ी औरत राजन से पूछती है तुम इतने दुखी क्यू लग रहे हो।


राजन:- घर पर खाने के लिये आनाज का एक दाना भी नही है। बीवी बच्चे भूखे बैठे हैं, कही भी काम नही मिल रहा है।

बूढ़ी औरत राजन को केसर की मिठाई देते हुए बोलती है, दुखी मत हो। कुछ दूर आगे जंगल मे पांच पेड़ दिखेंगे उसके आगे एक छोटी सी गुफ्फा है।

 जहां तीन बवने रहते है। जैसे ही वह Hindi kahaniya तुम्हारे हाथो मे यह केसर की मीठाई देखेंगे वह मांगेंगे। तुम इसके बदले उनसे चक्की मांग लेना। चक्की के आते ही तुम्हारे दिन बदल जायेंगे।

राजन ने बुढ़िया का धन्यबाद किया और मिठाई ले कर आगे बढ़ने लगा। कुछ दूर चलने के बाद उसे पांच घने पेड़ दिखाई दिए। 

उसके पार जाते ही उसे एक गुफा दिखाई दी। गुफा छोटा था राजन झुक  अंदर घुस गया।  जैसे ही  अंदर गया उसने  की तीन बौने खड़े थे।

राजन के हाथ में मिठाई देख कर वह बहुत खुश हुए और वो मिठाई मांगने लगे। जैसा बुढ़िया ने कहा था ठीक वैसे ही राजन ने किया।


 वह उस मिठाई के बदले उन बावनो से चक्की मांगी। बावनो ने राजन को चक्की दे दी और उसे बताया की यह कोई आम चक्की नहीं है ये एक जादुई चक्की है।

  तुम जो कुछ भी इस चक्की से मानंगो वो तुम्हे मिल जायेगा। अपनी जरुरत पूरी होने के बाद तुम इस पर एक लाल कपडा रख देना। यह एक मात्र तरीका है इसे  रोकने का। 

राजन की ज़िन्दगी में बदलाव की सुरुवात|Hindi kahaniya

 राजन :- धन्यवाद ! मैं जरूर इस बात का ध्यान रखूँगा।
 राजन ने मिठाई उन्हें दे दी और चक्की ले कर घर आ गया। घर पर पत्नी और बच्चा भूखे ही बैठे थे।

 राजन ने सारी घटना अपनी पत्नी को बताई।  उन्होंने चादर बिछा कर चक्की को उस पर रख दिया।

राजन ने चक्की से कहा चक्की- चक्की चावल दे दो। देखते ही देखते वहा चावल का ढेर लग गया। फिर राजन ने लाल कपडा डाल कर चक्की को रोक दिया। 


एक एक कर के राजन ने दाल , गेहू ,आटा  सब मांग लिया। राजन ने अपने परिवार के साथ भर पेट खाना खाया।

अब राजन बाकि का अनाज बाजार जा कर बेच आता था। देखते ही देखते राजन की आर्थिक परिस्तिथि सुधरने  थी। पहनने के लिए अच्छे  कपडे , भर पेट खाना ,बच्चे की शिक्षा  सब कुछ आसान हो गया।

 राजन ने एक नया और बड़ा घर भी बना लिया। यह बात उसके भाई विजय तक पहुंच गई। moral story for kids 

विजय :- कल तक तो इसके पास खाने तक  के पैसे  नहीं थे। आज उसके पास नया घर ,अच्छे कपडे ,खाने के लिए भोजन सब है। कहा से आये उसके पास इतने पैसे ? मुझे ये राज़ जानना है।

विजय खाना खाने के बहाने राजन के घर गया। खाना खाने के बाद विजय घर से बहार आया परन्तु वह अपने घर नहीं गया वो छुप कर राजन के घर पर नज़र रखे हुए था।


 थोड़ी देर बाद जब राजन ने चक्की से आनाज मांगा तो चक्की ने अनाज देना शुरू किया। यह देख कर विजय चौंक गया और उसने  सोचा मै यह चक्की चुरा कर अपने घर ले जायूँगा।

दूसरे दिन जब राजन आनाज बेचने बाजार गया तभी चुपके से विजय उसके घर में घुस गया और चक्की को सबकी नज़रों से बचा कर अपने घर ले गया। 


घर पहुंचते ही उसने अपनी पत्नी से कहा जल्दी से सारा सामान बांध लो हम यह गाँव छोर कर जा रहे हैं।

उसकी पत्नी ने पूछा :- हम कहा जा रहे हैं और आप ये किसकी चक्की उठा लाये हैं।


विजय :- तुम जल्दी से सामान बांधो तुम्हारे सरे सवाल का जवाब मैं दूंगा। पहले हमें यहाँ से निकलना है।

विजय ,पत्नी और बच्चे के साथ अपना घर और गाँव छोर कर चल पड़ा। विजय कही दूर दूसरे गाँव में जा कर बसने और ठाठ से ज़िंदगी बिताने का सपना देखने लगा।


 उसने एक नाव ख़रीदा और अपनी पत्नी और बच्चे के साथ नाव में  बैठ गया और नदी के रास्ते निकल पड़ा।   hindi story  with photo .

विजय की पत्नी ने कहा इतनी भारी चक्की ले कर हम कहा जा रहे हैं ?

विजय :- यह कोई आम चक्की  नहीं है। यह एक जादुई चक्की है। इसकी वजह से तो राजन इतनी बड़ा  घर ,धन दौलत का मालिक बना है।

 अब मै इस चक्की को उसके घर से उठा कर ले आया हूँ। इसे हम बहुत धन कमाएंगे और आराम की ज़िंदगी गुजरेंगे।
रुको मैं तुम्हे अभी इसका जादू दिखता हूँ।
विजय :-चक्की चक्की नमक निकल  चक्की ने नमक देना शुरू किया देखते देखते नाव पूरा नमक से भर गया।  

लेकिन विजय को पता नहीं था की उसे रोकना कैसे है। नाव नमक के वजन से नदी में डूब गया। विजय और उसका परिवार नदी में डूब गए। story in hindi 

राजन बहुत मेहनती आदमी था। जितना भी चक्की ने उसे दिया था उसने अपनी मेहनत से दुगना कर लिया था।


और आगे की ज़िंदगी राजन और उसका परिवार ख़ुशी खुशी बिताने लगे।

सीख :- इस हिन्दी कहानी से हमें यही सिख मिलती है की हमें लालच नहीं करना चाहिए। लालच बुरी बला है। हमें परिश्रम करना चाहिए। परिश्रम का फल मीठा होता है। अगर हम मेहनत करते रहेंगे तभी कोई जादू भी होगा।

आप यह पढ़ रहे हैं तो यहां तक आने के लिये धन्यवाद मुझे आशा है की आपको 2min में जादुई चक्की ने कर दिया मालामाल की हिन्दी कहानी पसंद आई होगी ।

और रोमांचिक कहानियां है निचे पढ़े।

धन्यवाद। 

Leave a Comment