सोच की शक्ति |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

सोच की शक्ति


सोच की शक्ति का संक्षिप्त विवरण|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

सोच की शक्ति|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi: संभु एक नकारात्मक आदमी था।  [Hindi kahaniya]  एक बार गाँव में चुनाव हुए अब देखिये संबु का क्या होता है।  

एक बार की बात है एक गाँव में दो किसान रहते थे। एक का नाम शंभू था जो की हमेशा उदास रहता था। शंभू बहुत ही नाकारात्मक आदमी  था।

 वह इतना नाकारात्मक सोचता था की खुशी के मौके पे भी वह अपनी खुशी नहीं दिखा पाता । वो उस खुशी के मौके पे भी नाकारात्मक बाते सोचता रहता था।

 इसकी इसी बात से इसकी घरवाली भी परेशान रहती थी। ये खुद तो दुखी रहता था इसके कारन इसके आस पास के लोगो को भी दुखी करता था।

वही दुसरा किसान राजेश था। जो की अपने आप मे ही मस्ती की दुकान था। राजेश हमेशा खुश रहता था और दूसरो को भी खुश रखता था। [Hindi kahaniya]

 गाँव के लोग राजेश के बारे मे अच्छा  सोचते थे। उसके साथ दोस्ती करना चाहते थे। उसके साथ उठना बैठाना लोगो को अच्छा लगता था।

राजेश हमेशा सकारत्मक सोचता था। वह हमेशा उत्साहित रहता था। किसी भी काम को करने के लिये तैयार रहता था। राजेश मुशीबत से घबरा कर पीछे हटने वालो मे से नही था। वह हमेशा मुसीबत का सामना करता था। [Hindi kahani]

वही शंभू कोई भी काम करने से पहले ही सोच लेता था की मुझसे नहीं होगा इसिलिए उसको कोई भी काम करने मे मन नही लगता था।

एक बार की बात है गाँव मे मुखिया का चुनाव होने वाला था। दोनो किसान शंभू और राजेश चुनाव लड़ने की सोच रहे थे।

हमेशा की तरह शंभू चुनाव लड़ने से पहले ही ड़र रहा था की वो हार जायेगा। तभी शंभू की बीवी ने उसे समझाया और वो समझा। और उसे चुनाव लड़ने के लिये राजि कर लिया।


वही दुसरी तरफ राजेश  खुशी खुशी  चुनाव लड़ने की सोच रहा था। राजेश गाँव का मुखिया बन के गाँव वालो की समस्या  दूर करना चाहता था। वह गाँव वालो को एक अच्छी जिंदगी देना चाहता था।

Related:-दुःख की घड़ी में एक साधू दुखी तो दूसरा खुश, आईये देखे ऐसा क्यों हुआ|

दोनो किसान अपने अपने प्रचार  मे लग गये। लोगो को मनाने मे जुट गये की वो उनको क्यू वोट दे। दोंनो पुरे गाँव मे घूम घूम कर अपना प्रचार  कर रहे थे। [Moral stories in Hindi]

 राजेश अपने सकारत्मक सोच और अपनी सकारत्मक बातों से ज्यादा लोगो को प्रभावित कर रहा था। लोग उसकी बातो को समर्थन कर रहे थे उसके साथ जुड़  रहे थे।

वही शंभू ज्यादा लोगो को अपने साथ जोड़ पाने मे नाकाम दिख रहा था।

आज चुनाव का दिन है गाँव के लोग वोट देने के लिये पहुच रहे थे। वोट देना खत्म हुआ और चुनाव के रिजल्ट की बारि थी।

 वीटो की गिनती जारी थी। शाम तक सारे वोटो की गिनती  हो चुकी थी अब बस फैसला सुनना था।
जिला के डीएम ने फैसला सुनाया राजेश गाँव का नया मुखिया था। राजेश ने चुनाव जीत लिया था। [kahaniya Hindi]

राजेश की जीत का कारन था उसका सकारत्मक सोच। किसी भी चिज के प्रती अच्छी विचार  रखना। इसी सोच के कारन लोग उसको पसंद करते थे और  उसे जुडते गये और वह चुनाव जीत गया।

इस हिन्दी कहानी से हमे सिखना चाहिये की हमे हमेशा अच्चा और सकारत्मक सोचना चाहिये।



soch ki shakti

Aaj main aaplogon ko jo kahani sunane wala hoon wo hamare jeevan,hamare rahne,hamari sochne ki shakti ko badha dega .aaie kahani suru karte hain.

Ek baar ki baat hai ek gao me do kissan rahte the. 

ek ka naam shambhu tha. jo ki hamesha udas rhta tha wo itna negative sochta tha koi khusi ke mauke pe v khul ke apni khusi nhi dikha pata tha. [Hindi kahani]

 wo har chiz me negative baat hi sochta tha.

iske iss soch ke karan iske gharwali vee khush nhi rah pati thi.ye khud to dukhi rahta tha.

 iske karan dusre log v dukhi ho jate the.

whi dusra kisan rajesh tha. jo apne aap me hi msti ki dukan tha.

wo hamesha khush  rhta tha aur aas pass ke logon ko vee khush rakhta tha.

 gaao ke log rajesh ke bare me accha sochte the.

Rajesh se dosti karna chahte the uske saath uthna baithna chahte the.Rajesh hamesh positive sochta tha.  [Moral stories in Hindi]

wo haar kaam ko karne ke liye taiyaar rhta tha . wo kavi kisi musibat se ghabra ke piche nhi hatta tha uske samna karta tha. 

wahi shambhu koi vee kaam karne se pahle hi soch leta tha ki mujhse nhi hoga.

issi soch ke karan wo koi kaam me maan nhi lga pata tha. 

Ek baar ki baat hai gaaon me mukhiya ka chunao hone wala tha. dono kissan shambhu aur Rajesh dono chunao ladne ki Sochi.  [Hindi kahaniya]

shambhu hamesha ki Tarah soch ke dar rha tha use nhi ho payega wo haar jayega.

 tvi shambhu ki biwi ne use smjhaya aur chunao ladne ke liye taiyaar kr liya.

whi dusri trf Rajesh khusi se chunao ladne ki soch rha tha.

 wo iss baat se khus tha ki wo jeetega aur gaao ka mukhiya banega logo ki samasya door karega .

एक मरे हुए चूहे से भी पैसे कमाए जा सकते है ! आइये देखे कैसे|

 logo ko acchi zindgi dega. gaao ke bacchon ke liye school banayega. kissano ke liye kuch karega .

Apne gaao ko accha aur waha ke logo ko acchi zindgi dega.  [Hindi kahani]
dono kissan chunao ke parchar me jud gaye gaao me ghum ghum ke apna parchar kiya .

logon ko manane lge ki wo usnko kyu vote dee Rajesh apne positive attitude ke sath logon ko jada se jada logo ko apne sath jutaa tha .logo uski baat ko maan rhe the.

aaj chunao ka din hai gaao ke log vote dene pahuch rhe the .

vote dena khtm Hua ab election ki geenti hui aur Rajesh jeet gaya gaao ka mukhiya ban gaya . 

Rajesh ki jeet ka main karan uska attitude tha .kisi v chiz ke prati positive rhna .

issi positive attitude se log use attract hote the .  [Moral stories in Hindi]

iss kahani se hame yahi Sikh milta hai ki hame hamesha positive sochna chahiye .

hame kavi vee negative nhi sochna chahiye isse hm to dukhi hote hee hain apne aas pass ke logo ko vee dukhi karte hai .
ek samaye aata hai jb hamare pass koi nhi rhta .

kahani ki seekh: isiliye hame positive sochna chahiye aur logo ko ve utsahit karna chahiye.
aasa karta hoon ki aaplogo ko kahani psnd aai hogi …

aap kiss tarah ki kahani padhna chahte hain hame comment kar ke batayiye ….

Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko सोच की शक्ति |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi  Pasand aayi hogi ..
Aur Romanchak kahaniya h niche padhe…

Leave a Comment