भगवान बुद्ध|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

भगवान बुद्ध

भगवान बुद्ध का संक्षिप्त विवरण|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

 भगवान बुद्ध|Hindi kahaniya| इस कहानी में भगवान बुद्ध दान स्वीकर करने के लिए तैयार हो गए  [Hindi kahaniya]  फिर एक बुढ़िया आधा अनार लेके आयी फिर देखिये आगे क्या हुआ। 


एक बार की बात है। भगवान बुद्ध ने अपने हाथों से दान लेने की घोषणा की। यह बात पुरे राज्य में  फैल गया  कि एक विशेष दिन, वह अपने हाथों से दान  का स्वीकार करेंगे।

 उन्होंने सभी भक्तों  को  प्रस्तावों के साथ आने का अनुरोध किया, जिन्हें वे गरीबों को वितरित करना चाहते थे।

उस दिन, भगवान बुद्ध प्रस्ताव  स्वीकार करने के लिए एक पेड़ के नीचे बैठे थे।

 महान राजा बिंबिसार ने सबसे पहले अविश्वसनीय उपहार पेश किया।

उपहार में  सोने के आभूषण , सोने के सिक्के, बड़ी मात्रा में भोजन और भूमि और घरों के काम काज की चीज़ें थी ।

 भगवान बुद्ध ने सभी उपहारों को एक हाथ से स्वीकार कर लिया।

उसके बाद राजकुमार अज़त्शत्रु  ने भी उपहारों को भगवन बुद्ध को अर्पित किया।

  जो समान मूल्यवान थे। भगवान बुद्ध ने उन्हें एक हाथ से फिर से प्राप्त किया।  [Hindi kahaniya]

इसके बाद, कई राजाओं और व्यापारियों ने भगवान बुद्ध को उपहार प्रस्तुत किए। भगवान बुद्ध ने अपने दूसरे हाथ से स्वीकार कर लिया।

फिर, एक बूढ़ी  महिला आ गई। उसने भगवान बुद्ध को नमस्कार किया और उत्सुकता से कहा,

 “प्रबुद्ध, मैंने आज केवल आपके प्राप्त उपहारों के बारे में सुना। मैं एक गरीब महिला हूं और मेरे पास  कुछ भी नहीं है।

 Related:-एक मरे हुए चूहे से भी पैसे कमाए जा सकते है ! आइये देखे कैसे|

““ जब मैंने खबर सुनी, तो मैं एक अनार  खा रही थी और केवल मेरे पास आधा अनार बचा था। मेरे पास देने के लिए और कुछ नहीं है।

इसलिए मैं अपने आधे अनार को साथ लाई हूँ, हे भगवान, मुझे आशा है कि आप इसे स्वीकार करेंगे। “  [Hindi kahani]

सभी को आश्चर्यचकित करते हुए, भगवान बुद्ध ने अपने दोनों हाथों को आधा अनार प्राप्त करने के लिए बढ़ा दिया।

एक राजा ने आदरपूर्वक पूछा, भगवान आपने दोनों हाथों को क्यू बढ़ाए उस आधे अनार को  प्राप्त करने के लिए ..?

भगवान बुद्ध ने धीरे से उत्तर दिया,

“हे राजा , आप सभी ने वो सब महंगे उपहार दिये जो आप देना चाहते थे। जो आपके पास अतिरिक्त है।

जो आपको पसंद था वो नहीं दे रहें  है। दान के बजाय आपकी मकसद महिमा के लिए अधिक थी।  [Moral stories in Hindi]  इस महिला ने अपना  सब कुछ दे  दिया और खुशी से  उसे दिया। इसलिए मुझे अपने दोनो हाथों को आगे करने की आवश्यकता पड़ी। “

सीख  :- “हम जब भी किसी को कुछ देते है तो हम बस उतना ही देते है जितना हमारे ज़रूरत से अतिरिक्त होता है , हम वो चीज़ कभी नही देते जो हमारे लिए बेहद अज़ीज़ होती है , हम वो भी नही देखते की जिसे हम कुछ  दे रहे है उसे वास्तव मे किस चीज़ की आवश्यकता है”

Bhagavan budh

ek baar ki baat hai.  bhagavaan buddh ne apne haatho se daan lene ki ghoshna ki. yah baat poore rajya me faiel gaya.

ek vishesh din, bhagavan buddh  apane haathon se daan  ka sveekaar karenge.

,unhonne apne sabhee bhakto ko sabhee prastaavon ke saath aane ka anurodh kiya jinhen ve gareebon ko vitarit karana chaahate the.  [Hindi kahaniya]

us din, bhagavaan buddh prastav sveekaar karane ke lie.

ek ped ke neeche baithe the. mahaan raaja bimbisaar ne sabase pahale avishvasaneey upahaar pesh kie.

 upahaar me unhone  sone ki aabhusan , sone ke sikke, badee maatra mein bhojan aur bhoomi aur gharon ke kaam ki chize dee.

 bhagavaan buddh ne sabhee upahaaron ko ek haath se sveekaar kar liya.

 usake baad raajakumaar azatshatru  ne apne upahaaron ko pesh kiya  jo samaan moolyavaan the.

 bhagavaan buddh ne unhen ek haath se phir se praapt kiya.  [Hindi kahani]

isake baad, kaee raajaon aur vyaapaariyon ne bhagavaan buddh ko upahaar prastut kie. unhonne unhen apane doosare haath se sveekaar kar liya.

bhagwan budh|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

phir, ek boodhee mahila aa gaee. usane bhagavaan buddh ko namaskaar kiya aur utsukata se kaha, “prabuddh, mainne aaj keval aapake praapt upahaaron ke baare mein suna.

main ek gareeb mahila hoon aur mere pass kuchh bhee nahin hai aapko dene ke liye.

जंगल के पेड़ पे भूत है। क्या ये खबर सही है? या किसी की चाल आइए देखे ।

 jab mainne khabar sunee, to main is anaar ko kha rahee thee aur keval aadha anaar bache the.

mere paas dene ke lie aur kuchh nahin hai, isalie main apane aadhe anaar ko saath laee hoon, he bhagavaan, mujhe aasha hai ki aap ise sveekaar karenge. “   [Moral stories in Hindi]

sabhee ko aashcharyachakit karate hue, bhagavaan buddh ne apane donon haathon ko aadha anaar praapt karane ke lie badha diya.

ek raaja ne aadara-poorvak poochha, bhagavaan aapne  ne us aadhe anaar ke liye  apne donon haathon ko kyoo badhae?

bhagavaan buddh ne dheere se uttar diya, “hey raja, aapane sabhee mahange upahaar die lekin aap mein se koee bhee aapake paas jo tha jo aapako pasand tha vo nahin de raha hai.

daan ke bajaay aapakee makasad mahima ke lie adhik thee.  [Hindi kahaniya]

 is mahila ne usaka sab kuch diya aur khushee se use diya. isalie mujhe apane dono haathon ko aage karane kee aavashyakata padee “

Kahani ki seekh

“ham jab bhee kisee ko kuchh dete hai to ham bas utana hee dete hai jitana hamaare zaroorat se atirikt hota hai , ham vo cheez kabhee nahee dete jo hamaare lie behad azeez hotee hai , ham vo bhee nahee dekhate kee jise ham ya sab de rahe hai use vaastav me kis cheez kee aavashyakata hai”

 Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko bhagwan budh|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi Pasand aayi hogi ..
Aur Romanchak kahaniya h niche padhe…

1 thought on “भगवान बुद्ध|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi”

Leave a Comment