बद्सूरत बतख़ |ugly duckling story in Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

बदसूरत बत्तख़ |ugly duck story in hindi 


बद्सूरत बतख़ का संक्षिप्त विवरण|Hindi kahania|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

बद्सूरत बतख़ |Hindi kahaniya|:इस कहानी में एक बदसूरत बतख है जिससे सब नफरत करते है   [Hindi kahania]  पर दुनिया ये नंही जानती की जिसे वो बतख़ समझ रही है वो कुछ और है।  [Hindi kahania]

एक बार गर्मी के दिनों में ,फार्म  के सभी जानवर ,पंछी मज़्ज़े कर रहे थे उसी फार्म में बतख़ भी रहते  थे।

सभी बतख़ तालाब में नाहा रहे थे। वही एक माँ बत्तख अपने अंडो से बच्चों के बहार निकलने का इंतजार कर रही थी। थोड़ी देर के इंतजार के बाद बच्चे अंडे  से बहार आने लगे|

सभी बच्चे बहार आ गए ,लेकिन एक अंडा से बच्चा बाहर नहीं आ पा रहा था बतख़ माँ  उस अंडे पे थोड़ी देर बैठ गई।
थोड़ी देर बाद उस अंडे से बच्चा बाहर आ गया। सभी दूसरे बच्चे उसे देख कर जोर जोर से हँसने लगे।  माँ बतख़ भी उस बच्चे को देख कर आश्चर्य चकित थी|

वो बच्चा समझ नहीं पा रहा था की क्या हो रहा है वो बच्चा बाकी दूसरे बतख़ के बच्चे से अलग था ये देखने में बहुत बदसूरत था |

वह दूसरे बच्चे की तरह नहीं था। ये सब देख कर बदसूरत बच्चा रोने लगा ,तभी उसकी माँ उसके पास आई और उसे संभाला ,उसे समझाया की वो दुसरो से अलग है।  [Hindi kahaniya]

समय के साथ धीरे धीरे बच्चे बड़े हो रहे थे। लेकिन बदसूरत  बतख़ बाकी दुसरो बच्चो से ज्यादा बड़ा लग रहा था।

उसकी माँ को लग रहा था की वो बहुत जल्दी जल्दी बड़ा हो रहा है फार्म के सभी जानवर उसका मज़ाक उड़ाते थे।

कोई भी उसके साथ खेलना नहीं चाहता था। सभी उसे चिढ़ाते थे। बच्चा रोता रहता था पर उसकी माँ उसे समझती थी की वो अलग है  उसकी माँ उसके  साथ  खड़ी रहती थी।

एक दिन सभी बच्चे माँ के साथ तालाब में तैर रहे थे ,बाकि के पंछी और जानवर भी मज़्ज़े कर रहे थे। की तभी दो शिकारी बन्दुक ले कर आ गए। सभी जानवर पंछी भागने लगे।

वो शिकारी की बन्दुक की आवाज़ सुन कर बतख माँ भी अपने बच्चो को ले कर भागने लगी।  (ugly duckling Hindi kahani)

 शिकारी ने उसे देख लिया और गोली चलाने लगा।  एक गोली बतख माँ को लग गई। शिकारी उसे ले गए। तब तक बच्चे फ़ार्म मे जा चुके थे।

बदसूरत बतख माँ के इंतजार में फार्म के दरवाजे पे खड़ा था।वो इंतजार में था की उसकी माँ कब आएगी।

उसको इंतजार करते करते दो दिन हो गया था।  वो सभी जानवरो के पास जा जा कर पूछ रहा था  की उसकी माँ को किसी ने देखा है?  सभी जानवर उसे भगा दे रहे थे। कोई उस बदसूरत बतख से बात तक नहीं करना चाहता था ।

बद्सूरत बतख़ |Hindi kahani|Moral stories in Hindi

वो एक कुत्ते के पास गया। क्या तुमने मेरी माँ को देखा है?कुत्ता ने उसे कहा मै एक बदसूरत बतख से बात नहीं कर सकता। सभी मुझपर हसेंगे ! बतख वहां  से चला गया।

अब वो एक मुर्गी के पास गया मुर्गी ने उसे कहा मैं  तुमसे बहुत खूबसूरत हूँ ।

भागो यहाँ से..

ये सब सुनने के बाद बतख बहुत उदास रहता था वो कोई ऐसी जगह जाना  चाहता था जहां  वह अपने आप को छुपा सकता था | [Moral stories in Hindi]

बतख अपनी माँ की खोज में अपने फ़ार्म से बाहर  निकला और चलने लगा।

 रस्ते में वह सबसे अपनी माँ के बारे में पूछता जा रहा था। वो चलते  चलते तीन तालाब पार कर चूका था।

 अचानक उसने देखा की एक तालाब है जो पूरी तरह से खाली है।  उसने सोचा मै  यही रहूँगा। बदसूरत बतख उस तालाब में रहने लगा।

एक दिन उसने आसमान में देखा की कुछ पंछी अपनी लम्बी गर्दन आगे कर के उड़ रहे थे। बतख उसे देख के सोचने लगा वो लोग कितने खूबसूरत है।

काश  मै भी इतना खूबसूरत होता।  बतख वैसे तो उस तालाब में अकेला रहता था। लेकिन वो खुश रहता था।

सर्दियों का मौसम आ गया था बर्फ गिरना शूरु हो गया था। सभी तालाब जम चुके थे।  

चारो तरफ बर्फ ही बर्फ था। बतख तालाब से निकल कर बाहर आ गया था वो बर्फ में मज़्ज़े से खुश हो कर खेल कूद रहा था।

चारो तरफ बर्फ होने के कारन बतख को खाना ढूंढने में बहुत परेशानी हो रहा था।

उसे कहि खाना नहीं मिल रहा था। वो चलता जा रहा था अब उसे ठंढ भी लगने  लगी थी।

 वो कांपने लगा था वह एक पेड़ के नीचे जा कर बैठ गया।  एक किसान ने उसे वहा देखा किसान को उस पर बहुत दया आया किसान ने बतख को अपने चादर में लपेट कर उठा लिया।

किसान ने कहा जब तक तुम बड़े नहीं हो जा ते मैं तुम्हारा ख़याल  रखूँगा।

किसान उसे अपने साथ रख लिया और उसकी देख भाल करने लगा।

कुछ महीने बाद बतख बड़ा हो चूका था। किसान ने उसे आगे की ज़िंदगी के लिए उसे तालाब में छोड़ने का फैसला किया।  [Moral stories in Hindi]

बतख जब तालाब में गया उसने अपने आप को पानी की परछाई में देखा। वह अपने आप को देख कर दंग रह गया।

उसे यकींन नहीं हो पा रहा था जो वह देख रहा था। उसे लगा की ये किसी और की परछाई है।

उसने अपने पंख फैलाया कर देखा। अपनी गर्दन आगे कर के देखा।  अब उसे यकीं हो गया था की वह परछाई इसकी ही है।
बतख जो बदसूरत लगता था वह बहुत खुबशुरत हो चुका था।  [Hindi kahaniya]

तालाब में कुछ हंसो का समूह जा रहा था। वह उनकी तरह दिख रहा था। वह कोई बदसूरत बतख नहीं था बल्कि वो एक हंस था। असल मे वह एक हंस का बच्चा था जिसका अण्डा गलती से एक बतख के घोसले मे जा पहुचा था।

वह उन हंसो के साथ चला गया और उनलोगो के साथ ही रहने लगा।

कहानी की सीख : हमे कहानी से यही सीख मिलती है की अगर हम दुनिया से अलग है तो दुनिया हमारा मज़ाक उड़ाएगी पर हमे उनपे ध्यान नहीं देना है और  खुद को सफल बनाना है। 

badsurat batakh


ek baar garmee ke dinon mein, farm ke sabhee jaanavar ,panchhee mazze kar rahe the. usee farm mein batakh vee the.
 sabhee batakh taalaab mein naaha rahe the.
 vahee ek maa battakh apane ando se bachchon ke bahaar nikalane ka intajaar kar rahee thee. 
thodee der ke intajaar ke baad bachche ande se bahaar aane lage.
sabhee bachche bahaar aa gae ,lekin ek anda se bachcha baahar nahin aa pa raha tha. 
batakh maa ne us ande pe thodee der baith gaee. thodee der baad us ande se bachcha baahar aa gaya.
 sabhee doosare bachche use dekh kar jor jor se hansane lage. maa batakh bhee aashchary chakit thee.  [Hindi kahani]

vo bachcha samajh nahin pa raha tha kee kya ho raha hai vo bachcha baakee doosare batakh ke bachche se alag tha.

 ye dekhane mein bahut badasoorat tha.vah doosare bachche kee tarah nahin tha.

ye sab dekh kar badasoorat bachcha rone laga ,tabhee usakee maa usake paas aaee aur use sambhaala ,use samajhaaya kee vo dusaro se alag hai.

samay ke sath dheere dheere bachche bade ho rahe the. lekin badasoorat batakh baakee dusaro bachcho se jyaada bada lag raha tha.

 usakee maa ko lag raha tha kee vo bahut jaldee jaldee bada ho raha hai.  farm ke sabhee jaanavar usaka mazaak udaate the.

 koee bhee usake saath khelana nahin chaahata tha.  [Moral stories in Hindi]

 sabhee use chidhaate the. bachcha rota rahata tha par usakee maa use samajhatee thee kee vo alag hai usakee maan usake sath hamesha khadee rahatee thee.

ek din sabhee bachche maan ke saath taalaab mein tair rahe the ,baaki ke panchhee aur jaanavar bhee mazze kar rahe the.

 kee tabhee do shikaaree banduk le kar aa gae. sabhee jaanavar panchhee bhaagane lage.

shikaaree kee banduk kee aavaaz sun kar batakh maa bhee apane bachcho ko le kar bhaagane lagee.

 shikaaree ne use dekh liya aur goli chalaane laga. ek goli batakh maa ko lag gaee. shikaaree use le gaye. tab tak bachche farm pahuch chuke the.  

badasoorat batakh maa ke intajaar mein farm ke dayavaaje pe khada tha. vo intajaar mein tha kee usakee maa kab aaegee.

uske intajaar karate karate do din ho gaya tha vo sabhee jaanavaro ke paas ja ja kar poochh raha .

ab vo ek murgee ke paas gaya murgee ne use kaha maee tumase bahut khoobasoorat hu. bhaago yahaan se.. ye sab sunane ke baad batakh bahut udaas ho gaya tha vo koee aisee jagah jaana chaahata tha jaha vah apane aap ko chhupa sakata tha.

बद्सूरत बतख़ |Hindi kahaniya

 batakh apanee maa kee khoj me wah farm se bahar nikala aur chalane laga.

raste mein vah sabase apanee maa ke baare mein poochhata ja raha tha.

vo chalate chalate teen taalaab paar kar chooka tha. achaanak usane dekha kee ek taalaab hai jo pooree tarah se khalee hai.  [Hindi kahani]

 usane socha mai yahee rahoonga. badasoorat batakh us taalaab mein rahane laga.

 ek din usane aasamaan mein dekha kee kuchh panchhee apanee lambee gardan aage kar ke ud rahe the.

batakh use dekh ke sochane laga vo log kitane khoobasoorat hai. kaash mai bhee itana khoobasoorat hota.

batakh vaise to us taalaab mein akela rahata tha. lekin vo khush rahata tha. sardiyon ka mausam aa gaya tha barf  girana shooru ho gaya tha.

 sabhee taalaab jam chuke the. chaaro taraf barf hee barf tha. batakh taalaab se nikal kar baahar aa gaya tha vo barf mein mazze se khush ho kar khel kood raha tha.

 chaaro taraf barf hone ke kaaran batakh ko khaana dhoondhane mein bahut pareshaanee ho raha tha. use kahi khaana nahin mil raha tha.

 vo chalata ja raha tha ab use thandh bhee lagane lagee thee. vo kaampane laga tha vah ek ped ke neeche ja kar baith gaya.  [Moral stories in Hindi]

ek kisaan ne use vaha dekha kisaan ko us par bahut daya aaya kisaan ne batakh ko apane chaadar mein lapet kar utha liya.

kisaan ne kaha jab tak tum bade nahin ho ja te main tumhaara khayaal rakhoonga. kisaan use apane saath rakh liya aur usakee dekh bhaal karane laga.

kuch mahine baad  batakh bada ho chooka tha. kisaan ne use aage kee zindagee ke lie use taalaab mein chhodane ka phaisala kiya.

batakh jab taalaab mein gaya usane apane aap ko paanee kee parachhaee mein dekha. vah apane aap ko dekh kar dang rah gaya.

use yakeenn nahin ho pa raha tha jo vah dekh raha tha. use laga kee ye kisee aur kee parachhaee hai.

 usane apane pankh phailaaya kar dekha. apanee gardan aage kar ke dekha. ab use yakeen ho gaya tha kee vah parchee isakee hee hai.

batakh bahut khush ho gaya tha. taalaab mein kuchh hanso ka samooh ja raha tha. vah unakee tarah dikh raha tha.  [Hindi kahaniya]

 vah koee badasoorat batakh nahin tha balki vo ek hans tha. jo ki galti se Hans ke ghoshale se gir kar ek batakh ke ghoshale me ja pahucha tha.

vah un hanso ke saath chala gaya aur unalogo ke saath hee rahane laga.

kahani se seekh :- hame kahaanee se yahee seekh milatee hai kee agar ham duniya se alag hai to duniya hamaara mazaak udaegee par hame unape dhyaan nahin dena hai aur khud ko saphal banaana hai.

 Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko बद्सूरत बतख़ |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi Pasand aayi hogi ..
Aur Romanchak kahaniya h niche padhe…

1 thought on “बद्सूरत बतख़ |ugly duckling story in Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi”

  1. यार मै भी एक ब्लॉगर हूँ, मैंने आपकी ब्लॉग पर देखा की आपका ब्लॉग monitize है मै गूगल एडसेंस नही उपयोग करता हूँ मै एक दूसरा adnetwork use करता हूँ अगर आपको और जानना है तो मेरे ईमेल पर massage करें [email protected]

    Reply

Leave a Comment