नटखट कृष्ण|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

नटखट कृष्ण

नटखट कृष्ण का संक्षिप्त विवरण|Hindi kahaniya|Hindi kahani

नटखट कृष्ण|Moral stories in Hindi: यह कहानी इस बात की है कि ग्रामीण किस तरह से कृष्ण के बांसुरी से चिंतित हैं और कैसे वे समस्या का समाधान करते हैं।


यह कहानी भगवान श्रीकृष्ण के बचपन की है जब वह बहुत नटखट हुआ करते थे।

भगवान् श्रीकृष्ण को बचपन से ही बांसुरी बजाने का बहुत शौक था। ग्वाले रोज गायें चराने जाते थे।

 श्रीकृष्ण इनके बीच बांसुरी बजाते रहते थे। उनकी बांसुरी की आवाज इतनी सुरीली और मधुर होती थी कि जो भी सुनता था, वह मुग्ध हो जाता था। [Hindi kahaniya] 

 श्रीकृष्ण के युवावस्था तक पहुँचते-पहुँचते बांसुरी की आवाज जादू का काम करने लगी थी।[Hindi kahani] 

जो भी आवाज सुनता था, वह बांसुरी की ओर इस तरह खिंचता चला आता था जैसे कोई वस्तु चुम्बक की ओर खिंची चली आती है।

ग्वालों की तरह ग्वालिनें भी बांसुरी सुनने के लिए श्रीकृष्ण के पास पहुंच जाती थीं।

शुरू-शुरू में ग्वालिनें घंटे-दो घंटे बांसुरी सुनकर चली जाती थीं। धीरे-धीरे ग्वालिनें बांसुरी सुनने में अधिक समय बिताने लगीं और घर के काम-काज के लिए समय कम रहने लगा।

 [Hindi kahaniya] कुछ ग्वालिनें ऐसी भी होती थीं, जो घर के अपने छोटे बच्चों को छोड़कर बांसुरी सुनने श्रीकृष्ण के पास चली जाती थीं।

श्रीकृष्ण अपनी बांसुरी बजाने में डूबे रहते। पूरे गोकुल की ग्वालिनें उनसे प्रेम करने लगी थीं, लेकिन श्रीकृष्ण थे कि अपनी बांसुरी बजाने में डूबे रहते।[Hindi kahani] 


कैसे महादेव शिव ने चन्द्रमा को जीवन दान दिया ।

कभी-कभी बांसुरी की आवाज रात के सन्नाटे को चीरती हुई दूर-दूर गांवों तक जा पहुंचती थी।

ग्वालों और ग्वालिनों पर बांसुरी का एक जादू-सा प्रभाव होता और वे बांसुरी सुनने के लिए अपने-अपने घर से निकल पड़ते थे।[Moral stories in hindi]

गाँवों में बड़ी अव्यवस्था फैल गई। जब घर का काम-काज छोड़कर ग्वालिनें श्रीकृष्ण के पास चली जातीं, तो घर का बचा हुआ काम घर के बड़े लोगों को करना पड़ता।

[Hindi kahaniya] उन्हें छोटे-छोटे बच्चों की भी देखभाल करनी पड़ती। गाँव की सभी लड़कियां लोक-लाज छोड़कर श्रीकृष्ण की बांसुरी सुनने पहुंच जाती थीं।

 जब श्रीकृष्ण से कहा गया, तो उन्होंने कहा, “मै  तो अपनी बांसुरी बजाने में डूबा रहता हूँ। [Hindi kahani] मैं किसी को बुलाने तो जाता नहीं। आप अपने-अपने परिवार वालों को समझाइए कि वे मेरे घर न आएं।”

ग्वालिनें न तो घर वालों की बात मानती थीं और न किसी बाहर वालों का उन्हें कोई डर था।

अब तो एक ही रास्ता रह गया था कि श्रीकृष्ण बांसुरी बजाना बंद करें। गांवों के मुखिया, जमींदार आदि सभी परेशान थे।

[Hindi kahaniya]  उन्होंने नंदबाबा को समझाया, इसके बाद भी कोई हल नहीं निकला। गांव के खास-खास लोग राजा के पास गए और उनके सामने यह समस्या रखी।

सबकी बात सुनकर राजा ने यह आज्ञा दी कि मेरे राज्य में जितने भी बांस के पेड़ हैं, उनको काट दिया जाय और उनमें आग लगा दी जाय। दूसरे दिन सब बांस के पेड़ों को आग लगा दी गई।

तब लोगों ने कहा  ‘न रहेगा बांस, न बजेगी बांसुरी।’  [Moral stories in hindi]

Natkhat krishna

 [Hindi kahaniya] yah kahani bhagavan shreekrishna ke bachapan kee hai.

jab vah bahut natkhat hua karte the.

bhagavan shree krishna ko bachapan se hee baansuree bajaane ka bahut shauk tha.

gwaale roj gaayen charaane jaate the.

shreekrshn inke beech baansuree bajaate rehte the. [Moral stories in hindi]

unki baansuree ki aawaaz itni sureelee aur madhur hotee thee ki jo bhee sunata tha, vah mantra-mugdh ho jaata tha.

shreekrishna ke yuva-avastha tak pahunchate-pahunchate baansuree kee aavaaj jaadoo ka kaam karane lagee thee.  [Hindi kahani] 

 jo bhee aawaaz sunata tha, vah baansuree kee or is tarah khincha chala aata tha jaise koi vastu chumbak kee or khinchee chalee aatee hai.

gwaalon kee tarah gwaaline bhee baansuree sunane ke lie shreekrishna ke paas pahunch jaatee thi.

shuroo-shuroo mein gvaaline ghante-do ghante baansuree sunakar chalee jaatee thi.

[Hindi kahaniya] dheere-dheere gvaaline baansuree sunane mein adhik samay bitaane lageen aur ghar ke kaam-kaaj ke lie samay kam rahane laga.

kuchh gvaaline aisee bhee hotee thi, jo ghar ke apane chhote bachchon ko chhodkar baansuree sunane shreekrishna ke paas chalee jaatee thi. [Hindi kahani] 

shreekrshn apni baansuree bajaane mein doobe rahate.

poore gokul kee gvaaline unse prem karne lagee theen, lekin shreekrishna the ki apne baansuree bajaane mein doobe rahate. [Moral stories in hindi]


kabhee-kabhee baansuree ki aawaaz raat ke sannaate ko cheeratee huee door-door k gaanvon tak ja pahunchatee thee.

उत्साहित रहे तरक्की मिलेगी, आइये देखे कैसे|

gwaalon aur gvaalino par baansuree ka ek jaadoo-sa prabhaav hota aur ve baansuree sunane ke lie apane-apane ghar se nikal padate the. [Hindi kahaniya] 

gaanvon mein badee av-vastha phail gaee. jab ghar ka kaam-kaaj chhodakar gvaaline shreekrishna ke paas chalee jaateen, to ghar ka bacha hua kaam ghar ke bade logon ko karana padata.

 unhe chhote-chhote bachchon kee bhee dekhabhaal karanee padatee. [Hindi kahani] 

 gaanv kee sabhee ladkiyaan lok-laaj chhodakar shreekrishna kee baansuree sunane pahunch jaatee theen.

jab shreekrishna se kaha gaya, to unhonne kaha, “mai  to apanee baansuree bajaane mein dooba rahata hoon. [Moral stories in hindi]

main kisee ko bulaane to jaata nahin. aap apane-apane parivaar vaalon ko samajhaie ki ve mere ghar na aae.”

gvaaline na to ghar vaalon kee baat maantee thi aur na kisi baahar vaalon ka unhe koi dar tha.

ab to ek hee raasta rah gaya tha ki shreekrishna baansuree bajaana band kare.

gaanvon ke mukhiya, jameendaar aadi sabhee pareshaan the.

 unhonne nanda-baba ko samajhaaya, iske baad bhee koee hal nahin nikala. [Moral stories in hindi]

gaanv ke khaas-khaas log raaja ke paas gae aur unke saamane yah samasya rakhee.

sabkee baat sunkar raaja ne yah aagya dee ki mere raajy mein jitne bhee baans ke ped hain, unko kaat diya jaay aur unmen aag laga dee jaay. [Hindi kahaniya] 

doosare din sab baans ke pedon ko aag laga dee gaee.

Tab logon ne kaha “na rahega baans, na bajegee baansuree”.

Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko नटखट कृष्ण|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi Pasand aayi hogi ..
Aur Romanchak kahaniya h niche padhe…

Leave a Comment