धनबाद के लाल shiv khera success story

ऐसे personality की कहानी जो झारखंड shiv khera success story राज्य के है और उन्होंने हज़ारो फ़िरंगिओ को english में जीवन का मोल समझाया ।

shiv khera success story की सुरुआत

शिव खेरा कौन हैं (who is shiv khera)

शिव खेरा  भारतीय मूल के एक लेखक, समाजसेवी ,और एक motivational speaker हैं।

जिन्होने भारत के दिल्ली मे एक foundation की शुरुआत की जिसका नाम country first foundation रखा गया था।

शिव खेरा ने अपनी एक राजनीतिक पार्टी का भी गठन किया जिसका नाम राष्ट्रीय सामन्था पार्टी है। शिव खेरा एक बहुत ही सफल लेखक और motivational speaker हैं।

शिव खेर का प्रारंभिक जीवन (early life of shiv khera)

शिव खेरा का जन्म 23 अगस्त 1961 मे झारखंड के धनबाद मे हुआ था। शिव खेरा एक व्यवसायिक परिवार मे जन्मे थे,उनके पिता कोयला खदान के व्यवसाय से जड़े हुए थे और उनकी मां एक गृहणी थी।

जब भरतीय सरकार ने सभी कोयला खदानो का राष्ट्रीय कारण कर सभी कोयला खदानो को अपने अंतर्गत लेना शुरु किया तब शिव खेरा के परिवार को काफी मुसीबतो का सामना करना पड़ा था।

शिव खेरा ने अपनी शुरुआती पढ़ाई एक स्थानीय सरकारी स्कूल की। वह पढ़ाई मे अच्छे नही थे जिसके कारन वह 10वी कक्षा मे एक बार फैल हो गये थे।

अपनी इस असफलता से उन्होने हार नही मानी बल्कि वह जिंदगी को एक चुनौति की तरह लेने लगे। जिसका नतिजा यह हुआ की वह अपनी 12वी मे प्रथम स्थान से पास हुए।

12वी खत्म करने के बाद शिव खेरा ने बिहार के एक कॉलेज से अपनी graduation की पढ़ाई पूरी की ।

अपने जीवन के प्रारंभिक दौर शिव खेरा ने कनाडा मे कार धोने का काम भी किया था, ना केवल उन्होने कार धोने का काम किया है बल्कि वह एक insurance agent भी रह चुके हैं,उन्होने दुकान पर सेल्समैन का भी काम किया है।

कुछ दिनो तक वह अमेरिका के जेल मे बतौर  volunteer काम कर चुके हैं।

जब शिव खेरा अमेरिका मे काम कर रहे थे तब उन्हे Norman Vincent Peale को सुनने का मौका मिला, वह नार्मन विन्सेंट पेअले के एक स्पीच से बहुत प्रभावित हुए और
Norman Vincent Peale के बताये कदमो पर चलने लगे।

अपने लक्ष्य को हासिल करने के कदमो पर वह चलते रहे और आगे चल कर वह एक motivational speaker बन गये।

अपनी मेहनत और लगन से वह कई व्यवसायिक संसथानो के सलाहकार भी बने।

shiv khera ने अमेरिका मे एक qualified learning नाम से एक कंपनी का HINDI KAHANIYA गठन किया,जिसके ceo (chief executive officer) खुद shiv khera थे।

यह कंपनी एक consultancy कंपनी है जो भारत के साथ साथ कई अन्य देशो मे भी अपनी सेवा देती है। इस कंपनी के माधय्म से वह अलग अलग कंपनीयों को अलग अलग लोगो को प्रोत्साहित करते हैं और लोगो को अपना महत्व समझाते हैं।

उन्होने हजारो लोगो और कंपनीयो के साथ काम किया है और उनको सफलता की ओर ले गये हैं।

Famous clients of shiv khera

qualified learning system के कुछ मसहूर clients जिनके साथ शिव खेरा ने काम किया है।

GM, IBM, HP, Citigroup, HSBC, Canon, Nestle, Philips, Johnson & Johnson और भी कई कंपनीयां हैं जिनके साथ shiv khera ने काम किया है।

shiv khera के वर्कशॉप से 17 दशों के हजारो लोगो ने ज्ञान लिया है। लाखो लोग उनको सुनते हैं, shiv khera कई टीवी शो और रेडिओ पर भी आ चुके हैं।

शिव खेरा कहते है “winners don’t do different things, they do things differently “

समाजिक और राजनैतिक जीवन ( political life of shiv khera)

shiv khera ने एक foundation का गठन किया जिसका नाम “country first foundation” रखा गया।

यह एक समाजिक कार्यकर्ता foundation है जिसका मकसद शिक्षा और न्याय माधय्म से लोगो की स्वतंत्रता सुनिश्चित करना है।

2004 मे shiv khera ने साउथ दिल्ली से चुनाव लड़ा था। वह निर्दलीय कैंडिडेट के रुप मे चुनाव लड़ रहे थे, चुनाव मे उनको सफलता नही मिली उन्हे हार का सामना करना पड़ा ।

 2008 मे उन्होने Bharatiya Rashtravadi Samanata Party (भरतीय राष्ट्र्यावादी सामन्था पार्टी ) का गठन किया।

2014 के election मे उन्होने भरतीय जनता पार्टी  को support किया था और उन्होने लाल कृष्ण अडवाणी के साथ चुनाव का प्रचार भी किया था।

अगर आप यह पढ़ रहे हैं तो यहां तक आने के लिये धन्यवाद मुझे आशा है की आपको shiv khera success story की हिन्दी कहानी पसंद आई होगी ।

और रोमांचिक कहानियां है निचे पढ़े।

Leave a Comment