दो साधु |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi



दो साधु

दो साधुओं  की कहानी  का संक्षिप्त विवरण|दो साधुओं  की कहानी|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

 दो साधुओं की कहानी |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi : यह कहानी दो साधुओं  की है..  [Hindi kahaniya]   एक जो मुश्किल के समय में सकारात्मक रहता है वही दूसरा निराश हो जाता है। | [Hindi kahaniya] 

किसी गाँव में दो साधू रहते थे।  वे दिन भर भीख मांगते और मंदिर में पूजा करते थे।

एक दिन गाँव में आंधी आ गयी और बहुत जोरों की बारिश होने लगी।

  दोनों साधू गाँव की सीमा के पास  एक झोपडी में निवास करते थे। , शाम को जब दोनों वापस पहुंचे तो देखा कि आंधी-तूफ़ान के कारण उनकी आधी झोपडी टूट गई है।

यह देखकर पहला साधू क्रोधित हो उठता है और क्रोध में बोलने  लगता है ,[Hindi kahaniya] 

” भगवान तू मेरे साथ हमेशा ही गलत करता है… मै  दिन भर तेरा नाम लेता हूँ।  मंदिर में तेरी पूजा करता हूँ, फिर भी तूने मेरी झोपडी तोड़ दी।  गाँव में चोर – लुटेरे झूठे लोगो के तो मकानों को कुछ नहीं हुआ , बिचारे हम साधुओं की झोपडी ही तूने तोड़ दी।

 ये तेरा ही काम है, हम तेरा नाम जपते हैं पर तू हमसे प्रेम नहीं करता….”

तभी दूसरा साधू आता है और झोपडी को देखकर खुश हो जाता है।  नाचने लगता है और कहता है।

  भगवान् आज विश्वास हो गया तू हमसे कितना प्रेम करता है ये हमारी आधी झोपडी तूने ही बचाई होगी वर्ना इतनी तेज आंधी – तूफ़ान में तो पूरी झोपडी ही उड़ जाती ये तेरी ही कृपा है कि अभी भी हमारे पास सर ढंकने को जगह है…. निश्चित ही ये मेरी पूजा का फल है , कल से मैं तेरी और पूजा करूँगा , मेरा तुझपर विश्वास अब और भी बढ़ गया है… तेरी जय हो ![Hindi kahani] 

दो साधुओं की कहानी |Hindi kahaniya

मित्रों हमने इस कहानी में देखा की  एक ही घटना को एक ही जैसे दो लोगों ने कितने अलग-अलग ढंग से देखा।  हमारी सोच हमारा भविष्य तय करती है।

कहानी की सीख : हमारी दुनिया तभी बदलेगी जब हमारी सोच बदलेगी। यदि हमारी सोच पहले वाले साधू की तरह होगी तो हमें हर चीज में कमी ही नजर आएगी और अगर दूसरे साधू की तरह होगी तो हमे हर चीज में अच्छाई दिखेगी ….अतः हमें दूसरे साधू की तरह विकट से विकट परिस्थिति में भी अपनी सोच सकारात्मक बनाये रखनी चाहिए।[Hindi kahaniya] 



दो साधु

kisee gaanv mein do saadhoo rahate the. ve din bhar bheekh maangate aur mandir mein pooja karate the.

ek din gaanv mein aandhee aa gayee aur bahut joron kee baarish hone lagee, donon saadhoo gaanv kee seema ke pass  ek jhopadee mein nivaas karate the.  [Hindi kahaniya]

shaam ko jab donon vaapas pahunche to dekha ki aandhee-toofaan ke kaaran unakee aadhee jhopadee toot gaee hai.

yah dekhakar pahala saadhoo krodhit ho uthata hai aur bolne  lagata hai.

” bhagavaan too mere saath hamesha hee galat karata hai. mein din bhar tera naam leta hoon , mandir mein teree pooja karata hoon phir bhee toone meree jhopadee tod dee…  [Hindi kahani]

 gaanv mein chor – lutere jhoothe logo ke to makaanon ko kuchh nahin hua , bichaare ham saadhuon kee jhopadee hee toone tod dee ye tera hee kaam hai.

मेढक ने अपने अपमान का बदला कैसे लिया? आइये देखते है|

ham tera naam japate hain par too hamase prem nahin karata….”

दो साधुओं की कहानी |Moral stories in Hindi

tabhee doosara saadhoo aata hai aur jhopadee ko dekhakar khush ho jaata hai.

naachane lagata hai aur kahata hai bhagavaan aaj vishvaas ho gaya too hamase kitana prem karata hai.

 ye hamaaree aadhee jhopadee toone hee bachaee hogee varna itanee tej aandhee – toofaan mein to pooree jhopadee hee ud jaatee ye teree hee krpa hai ki abhee bhee hamaare paas sar dhankane ko jagah hai.

nishchit hee ye meree pooja ka phal hai , kal se main teree aur pooja karoonga , mera tujhapar vishvaas ab aur bhee badh gaya hai… teree jay ho ![Hindi kahaniya] 

mitron hame iss kahani me dekha ki  ek hee ghatana ko ek hee jaise do logon ne kitane alag-alag dhang se dekha …

kahani ki seekh : hamaaree soch hamaara bhavishy tay karatee hai , hamaaree duniya tabhee badalegee jab hamaaree soch badalegee. yadi hamaaree soch pahale vaale saadhoo kee tarah hogee to hamen har cheej mein kamee hee najar aaegee aur agar doosare saadhoo kee tarah hogee to hame har cheej mein achchhaee dikhegee ….  [Moral stories in Hindi]

atah hamen doosare saadhoo kee tarah vikat se vikat paristhiti mein bhee apanee soch sakaaraatmak banaaye rakhanee chaahie. 

Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko दो साधुओं की कहानी |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi Pasand aayi hogi ..
Aur bhi Romanchak kahaniya hai niche jarur padhe…

Leave a Comment