दयालु कबूतर |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

दयालु कबूतर

दयालु कबूतर का संक्षिप्त विवरण|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

 दयालु कबूतर |Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi: यह कहानी एक दयालु कबूतर के बारे में है   [Hindi kahaniya]  और कैसे यह आदत उसके जीवन को बदल देती है|  [Hindi kahaniya] 

एक बार की बात है एक कबूतर पेड़ की डाल पर बैठा था। वो पेड़ नदी के किनारे था।

 कबूतर ने डालपर बैठे बैठे देखा कि नदी के पानी में एक चींटी बहती जा रही है।वह बेचारी बार बार किनारे आने की कोशिश करती है लेकिन पानी की धारा बहुत तेज है जिससे वो किनारे नहीं आ पा रही है। ऐसा लगता है कि चींटी थोड़ी देर में पानी में डूबकर मर जायेगी। [Hindi kahaniya] 

 कबूतर को दया आ गयी। उसने अपनी चोंच से एक पत्ता तोड़कर चींटी के पास पानी में गिरा दिया। चींटी उस पत्ते पर चढ़ गयी।

पत्ता बहकर किनारे आ गया। इस तरह चींटी की जान बच गयी। चींटी ने मन ही मन कबूतर का धन्यवाद किया।[Hindi kahani] 

उसी समय एक बहेलिया वहाँ आया और पेड़ के नीचे छुपकर बैठ गया।कबूतर ने बहेलिये को नहीं देखा। बहेलिया अपना बांस कबूतर को फँसाने के लिए ऊपर बढाने लगा।

 चींटी ने यह सब देखा तो वो पेड़ की और दौड़ी। वह बोल सकती तो जरूर बोलकर कबूतर को सावधान कर देती लेकिन वह बोल नहीं सकती थी।

जो लोग दुसरे को ठग के खाते हैं। उनको ये भुगतना पड़ता है आखिर मे।

चींटी ने सोचा कबूतर ने मेरी जान बचायी थी इसलिए मैं भी इसकी जान बचाउंगी। [Moral stories in hindi]

पेड़ के नीचे पहुंचकर चींटी बहेलिये के पैर पर चढ़ गयी और उसने बहेलिये के पैर में पूरे जोर से काटा।

चींटी के काटने से बहेलिया हिल गया और उसका बाँस भी हिल गया। [Hindi kahaniya] 

जिससे पेड़ के पत्तों की आवाज से कबूतर सावधान होकर उड़ गया। इस तरह से कबूतर को अपनी नेकी का फल मिल गया और उसकी जान बच गयी।

सीख : जो संकट में पड़े लोगों की सहायता करता है, उसपर संकट आनेपर उसकी सहायता भगवान् अवश्य करते हैं।

dayaalu kabootar

 [Hindi kahaniya] ek baar kee baat hai ek kabootar ped kee daal par baitha tha.

 vo ped nadee ke kinaare tha. kabootar ne daal par baithe baithe dekha ki nadee ke paanee mein ek cheentee bahatee ja rahee hai.

 vah bechaaree baar baar kinaare aane kee koshish karatee hai lekin paanee kee dhaara bahut tej hai jisase vo kinaare nahin aa pa rahee hai. [Hindi kahani] 

aisa lagata hai ki cheentee thodee der mein paanee mein doobakar mar jaayegee. kabootar ko daya aa gayee.

usane apanee chonch se ek patta todakar cheentee ke paas paanee mein gira diya. cheentee us patte par chadh gayee. patta bahakar kinaare aa gaya. [Moral stories in hindi]

is tarah cheentee kee jaan bach gayee. cheentee ne man hee man kabootar ka dhanyavaad kiya.

usee samay ek baheliya vahaan a
aya aur ped ke neeche chhupakar baith gaya.

kabootar ne baheliye ko nahin dekha.

baheliya apana baans kabootar ko phansaane ke lie oopar badhaane laga.

cheentee ne yah sab dekha to vo ped kee aur daudee. vah bol sakatee to jaroor bolakar kabootar ko saavadhaan kar detee lekin vah bol nahin sakatee thee. [Hindi kahaniya] 


गांधारी के 100 पुत्रों के जन्म की कहानी क्या है आइये देखे।

cheentee ne socha kabootar ne meree jaan bachaayee thee isalie main bhee isakee jaan bachaungee.

ped ke neeche pahunchakar cheentee baheliye ke pao par chadh gayee aur usane baheliye ke pair mein poore jor se kaata.

cheentee ke kaatane se baheliya hil gaya aur usaka baans bhee hil gaya. [Hindi kahani] 

jisase ped ke patton kee aavaaj se kabootar saavadhaan hokar ud gaya. is tarah se kabootar ko apanee nekee ka phal mil gaya aur usakee jaan bach gayee.

seekh : jo sankat mein pade logon kee sahaayata karata hai, usapar sankat aanepar usakee sahaayata bhagavaan avashy karate hain.

Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko दयालु कबूतर|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi Pasand aayi hogi ..
Aur Romanchak kahaniya h niche padhe…

Leave a Comment