कमज़ोर खरगोश|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in hindi

कमज़ोर खरगोश

   कमज़ोर खरगोश का संक्षिप्त विवरण|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in Hindi

कमज़ोर खरगोश|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in hindi : इस कहानी में खरगोश कमज़ोर    [Hindi kahaniya]    होने के कारण आत्महत्या करना चाहते है पर मेढक उनका मन्न बदल देता है…    [Hindi kahaniya] 

 एक बार कुछ खरगोश गरमी के दिनों में एक सूखी झाड़ी में इकठ्ठे हुए। खेतों में उन दिनों अन्न न होने की वजह से वे सब भूखे थे और वह भूख से बहुत परेशान थे।

 इन दिनों सुबह और शाम को गाँव से बाहर घूमने वाले  लोगों के साथ आने वाले कुत्ते भी उन्हें बहुत तंग करते थे।

कुतों के दौड़ने पर खरगोशों को छुपने की कोई जगह भी नहीं मिलती थी। सब खरगोश बहुत परेशान हो गए थे।

  एक खरगोश ने कहा “भगवान ने हमारी जाति के साथ बड़ा अन्याय किया है। हमको इतना छोटा और दुर्बल बनाया।

हमें उन्होंने न तो हिरन जैसे सींग दिए और न ही बिल्ली जैसे तेज पंजे। अपने दुश्मन से बचने का हमारे पास कोई उपाय नहीं है। सबके सामने से हमें भागना पड़ता है।”  [Hindi kahani] 

 दूसरे खरगोश ने कहा “मैं तो अब इस दुःख और आशंका से भरे जीवन से घबरा गया हूँ। मैंने तालाब में डूबकर मर जाने का निश्चय किया है।”
 तीसरा  खरगोश बोला “मैं भी मर जाना चाहता हूँ। अब और दुःख मुझसे नहीं सहा जाता। मैं अभी तालाब में कूदने जा रहा हूँ।”

 “हम सब तुम्हारे साथ चलते हैं। हम सब साथ रहे हैं तो साथ ही मरेंगे।” सब खरगोश बोल उठे। सब एक साथ तालाब की और चल पड़े।”

 जब वह तालाब पर पहुंचे तो तालाब के पानी से निकलकर बहुत सारे मेंढक किनारे पर बैठे थे। 
जब खरगोशों के आने की आवाज उन्हें आयी तो वे जल्दी से पानी में कूद गये। मेंढ़कों को डरकर पानी में कूदते देख खरगोश रुक गए।

इस बार रॉबिनहुड मारा जायेगा? आसार तो ऐसा ही लग रहे हैं। आइए देखे क्या वो जिन्दा बच पाता है।

 एक खरगोश बोला “भाइयों! हमें जान देने की कोई जरुरत नहीं है, आओ वापस चलें।  [Moral stories in hindi]
जब भगवान की इस दुनिया में हमसे भी छोटे और हमसे भी डरने वाले जीव रहते हैं और जीते हैं, तो हम अपनी जिंदगी से क्यों निराश हों?”.  

 उसकी बात सुनकर खरगोशों ने आत्महत्या का विचार छोड़ दिया और वापस लौट गये।

कहानी की सीख:- इस कहानी से हमें यह सीख मिलती हैं की जब तुम पर कोई मुसीबत आये और तुम्हे डर लगे तो यह देखो कि दुनिया में कितने ही लोग तुमसे भी ज्यादा दुखी, दरिद्र, रोगी और संकटग्रस्त हैं। तुम उनसे कितनी अच्छी दशा में हो। फिर तुम्हे क्यों घबराना चाहिये।

Kamzor khargosh


 Ek baar kuchh kharagosh garamee ke dinon mein ek sookhee jhaadee mein ikaththe hue.
 kheton mein un dinon ann na hone kee vajah se ve sab bhookhe the aur vah bhookh se bahut pareshaan the.    [Hindi kahaniya] 
in dinon subah aur shaam ko gaanv se baahar ghoomane vaalon logo  ke saath aane vaale kutte bhee unhen bahut tang karate the.

 kuton ke daudane par kharagoshon ko chhupane kee koee jagah bhee nahin milatee thee.
 sab kharagosh bahut pareshaan ho gae the.   

  ek kharagosh ne kaha “bhagavaan ne hamaaree jaati ke saath bada anyaay kiya hai.

hamako itana chhota aur durbal banaaya.hamen unhonne na to hiran jaise seeng die aur na hee billee jaise tej panje.  [Hindi kahani] 

apane dushman se bachane ka hamaare paas koee upaay nahin hai. sabake saamane se hamen bhaagana padata hai.”

 doosare kharagosh ne kaha “main to ab is duhkh aur aashanka se bhare jeevan se ghabara gaya hoon. 
mainne taalaab mein doobakar mar jaane ka nishchay kiya hai.” 

कमज़ोर खरगोश|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in hindi

 teesara bola “main bhee mar jaana chaahata hoon. ab aur duhkh mujhase nahin saha jaata. main abhee taalaab mein koodane ja raha hoon.”

एक मरे हुए चूहे से भी पैसे कमाए जा सकते है ! आइये देखे कैसे|

 “ham sab tumhaare saath chalate hain. ham sab saath rahe hain to saath hee marenge.” sab kharagosh bol uthe. sab ek saath taalaab kee aur chal pade.”

 jab vah taalaab par pahunche to taalaab ke paanee se nikalakar bahut saare mendhak kinaare par baithe the.  [Moral stories in hindi]

jab kharagoshon ke aane kee aavaaj unhen aayee to ve jaldee se paanee mein kood gaye. mendhakon ko darakar paanee mein koodate dekh kharagosh ruk gae.

ek kharagosh bola “bhaiyon! hamen jaan dene kee koee jarurat nahin hai, aao vaapas chalen.

 jab bhagavaan kee is duniya mein hamase bhee chhote aur hamase bhee darane vaale jeev rahate hain aur jeete hain, to ham apanee jindagee se kyon niraash hon?”

usakee baat sunakar kharagoshon ne aatmahatya ka vichaar chhod diya aur vaapas laut gaye.   [Hindi kahaniya] 


Kahani ki seekh : ISS kahani se hame yah Sikh milti hai ki jab tum par koee museebat aaye aur tumhe dar lage to yah dekho ki duniya mein kitane hee log tumase bhee jyaada dukhee, daridr, rogee aur sankatagrast hain. tum unase kitanee achchhee dasha mein ho. phir tumhe kyon ghabaraana chaahiye.

Nishkarsh

Agar aap yah padh rahe h to yaha tak aane k liye dhanyawad mujhe asha h ki aapko कमज़ोर खरगोश|Hindi kahaniya|Hindi kahani|Moral stories in hindi Pasand aayi hogi ..
Aur Romanchak kahaniya h niche padhe…

Leave a Comment